100 percent success in Aurangabad for Bharat Bandh, all shops closed

    • संख्या बढ़ाने की मांग

    तेल्हारा. कोरोना वायरस के संकट से राज्य सरकार द्वारा निर्देश जारी किए है. मंगल कार्यालय में शादी के लिए 50 से अधिक लोगों को उपस्थिति की अनुमति नहीं दी जा रही है. जिसके कारण मंगल कार्यालय में शादियां नहीं हो रही है. इसी कारण मंगल कार्यालय के मालिक, कर्मचारी, मंडप डेकोरेशन एण्ड बिछायत केंद्र के मालिक, पानी जार के आरो के मालिक, मजदूर, बैंड पार्टी और घोड़ेवाले आदि के साथ संबंधित कई लोगों को भुखमरी का सामना करना पड़ रहा है. जिससे राज्य सरकार ने शादी के लिए 50 से अधिक लोगों की उपस्थिति की अनुमति देने की मांग संबंधित व्यवसाई द्वारा की जा रही है. जिससे लोगों को रोजगार मिलेगा. 

    केशव कुकड़े

    मुक्ताई मंगलम मंगल कार्यालय के संचालक केशव कुकड़े ने कहा कि राज्य सरकार ने केवल 50 लोगों की अनुमति दी गई है. इस कारण मंगल कार्यालय में शादियां संपन्न नहीं हो रही है. जिससे बेरोजगारी बढ़ रही है. 

    भरत जोशी

    आरो प्लांट के मालिक भरत जोशी ने कहा कि लॉकडाउन के कारण विवाह नहीं हो रहे है. इसी कारण हमें बेरोजगारी का सामना करना पड़ रहा है. सरकार ने पूरी तरह से लॉकडाउन हटा देना चाहिए. जिससे होनेवाले मंगल कार्य से सभी को रोजगार प्राप्त होगा.

    पं. जीतेंद्रप्रसाद छांगाणी

    पंडित जीतेंद्रप्रसाद छांगाणी ने कहा कि विगत एक वर्ष से अधिक समय से लॉकडाउन चल रहा है. महाराष्ट्र को संत भूमि कहा जाता है. चल रहे लॉकडाउन को हटाया जाना चाहिए. सरकार यथा शीघ्र विवाह, धार्मिक विधि को शुरू करने की अनुमति दे. जिससे सभी को रोजगार मिलेगा.  

    किशोर भागवत

    अनंतराव भागवत मंगल कार्यालय के संचालक किशोर भागवत ने कहा कि मातापिता अपने बच्चों के लिए सपने देखते हैं. मेरे बेटी बेटे की शादी धूमधाम से हो जाए. इसलिए मंगल कार्यालय में 200 से लोगों की उपस्थिति की अनुमति देनी चाहिए. जिससे लोगों को रोजगार मिल सके. 

    दीपक वैष्णव

    जय अंबे साऊंड डेकोरेटर्स के संचालक व तहसील मंडप डेकोरेशन साऊंड लाइट एसोशियन के अध्यक्ष दीपक वैष्णव ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा लॉकडाउन लगाया गया है. इस कारण मंगल कार्यालय में शादी नहीं हो रही है. जिससे मंडप डेकोरेशन के मालिक और उनके कर्मचारियों को भुखमरी का सामना करना पड़ रहा है. सरकार ने मंगल कार्यालय में 100 से अधिक लोगों को उपस्थिति की अनुमति देना चाहिए. इस कारण हमें भी रोजगार मिल सकेगा.