”दिव्या” ने की बाढ़ पीड़ितों की मदद

चिखली. महाराष्ट्र के सांगली एवं कोल्हापुर जिले पर प्राकृतिक आपदाओं का आसमान गिरा है. बाढ़ की गंभीर परिस्थिति से जनजीवन अस्तव्यस्त हो गया. हजारों मकान धराशायी होने से लोग बेघर हो गए. अनेक लोगों की

चिखली. महाराष्ट्र के सांगली एवं कोल्हापुर जिले पर प्राकृतिक आपदाओं का आसमान गिरा है. बाढ़ की गंभीर परिस्थिति से जनजीवन अस्तव्यस्त हो गया. हजारों मकान धराशायी होने से लोग बेघर हो गए. अनेक लोगों की जान भी चली गई. ऐसी स्थिति में बाढ़ पीड़ितों को जीवनावश्यक सामग्री पहुंचाने का कार्य अनेक सामाजिक संगठनों द्वारा किया जा रहा है. इसी कड़ी में सामाजिक कार्यों में अग्रणी रहने वाले दिव्या फाउंडेशन के आह्वान पर मदद के लिए सैकड़ों हाथ सामने आए. नागरिकों ने राशन, कपड़े एवं अन्य जरुरती सामग्री इकठ्ठा की. जो बाढ़ पीड़ितों के लिए भेज दी गई है.

दिव्या फाउंडेशन महाराष्ट्र राज्य के संस्थापक अध्यक्ष अशोक काकड़े, सांगली जिला समन्वयक साहित्यकार नितिन चंदनशिवे, गोंदिया जिला समन्वयक चंद्रकुमार बहेकार एवं सभी जिला समन्वयकों के नेतृत्व में नागरिकों को बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए आह्वान किया गया. किसी ने मदद राशि तो किसी ने जीवनावश्यक सामग्री दी. देखते ही देखते बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए सैकड़ों हाथ सामने आने से बड़े पैमाने पर सामग्री इकट्ठा हुई. सांगली समन्वयक नितिन चंदनशिवे के नेतृत्व में सभी सामग्री सांगली में इकट्ठा कर बाढ़ पीड़ितों के लिए भेज दी गई है.

इस उपक्रम में दत्तात्र्य शिंदे, गणेश धेंडे, गजानन अवसरमोल, मो. इमरान, भगवान जाधव, नानासाहेब मंडलिक, शीतलकुमार जाधव, प्रतीक्षा जाधव, स्नेहा पवार, कोमल हसबे, डा. वैशाली हजारे, जयप्रभा जाधव, विजयकुमार थिगड़े, हेमल भाजीभाकरे, अस्मल शेख, प्रतीक्षा साबड़े, प्रियंका खेड़कर, राधिका वावड़, प्रमोद भोसले, सूरज मंडले, सोनाली निकम, श्रद्धा तुपे, श्रीकांत विभुते, प्रतीक्षा कदम, वैष्णवी बाबर, शैलेश आयवड़े, सलीम शेख, रोहित पवार, त्रिवेणीकुमार कोरे नोमन वठारे दिव्यांनी हराड़े ने विशेष भूमिका निभाई.

गोंदिया से संध्या फुंडे, उमेंद्र बिसेन, सचिन फुंडे, प्रिया जाधव, योगेश कावड़े, राकेश रोकड़े नीलेश शिंदे, गजानन अवसरमोल, प्रतिक्षा पाटिल, डा.गायत्री सावजी, सुनील तिजारे, संजय कस्तुरे, सचिन वाडेकर निशांतकुमार कलसकर, महाराष्ट्र के अनेक जिलों के दिव्या फाउंडेशन के सभी समन्वयक एवं दिव्या टीम ने बड़ी पहल के साथ भूमिका निभाई. उल्लेखनीय है कि दिव्या फाउंडेशन द्वारा निराधार, बेसहारा एवं जरूरतमंद नागरिकों के लिए अनेक उपक्रम चलाए जाते हैं. बाढ़ पीड़ितों के लिए आह्वान करते ही संपूर्ण महाराष्ट्र से बड़े पैमाने पर नागरिकों ने हाथ बंटाया.