हजारों ब्रास गौण खनिज की चोरी

संग्रामपुर. संग्रामपुर तहसील में रोजाना ५० से ६० टिप्पर व्दारा अवैध रुप से गौण खनिज की चोरी की जाती है. जिसकी ओर राजस्व विभाग की अनदेखी होने से सरकार का हजारों का राजस्व डूब रहा है. तहसील के सभी

संग्रामपुर. संग्रामपुर तहसील में रोजाना ५० से ६० टिप्पर व्दारा अवैध रुप से गौण खनिज की चोरी की जाती है. जिसकी ओर राजस्व विभाग की अनदेखी होने से सरकार का हजारों का राजस्व डूब रहा है. तहसील के सभी छोटी, बड़ी नदी नालों से रेती का उत्खनन कर चोरी की जाती है. फिलहाल पूर्णा नदी में पानी होने से जस्तगांव समीप के नदी से रोजाना दिन रात अवैध रूप से रेती का उत्खनन शुरू है. संग्रामपुर तहसील में अभी तक कोई भी रेती घाट की निलामी नही हुयी है. राजस्व अधिकारियों की मिलीभगत से रेती तस्कर रोजाना हजारों ब्रास की चोरी कर रहे हैं.

विशेष बात यह है की, एक नेता के रेती ढोनेवाले वाहनों को अधिकारियो व्दारा छुट दी जाती है. तहसीलदार ने रेती तस्करी रोकने के लिए निर्मान किया उडन दस्ता क्या करता है ऐसा सवाल भी उपस्थित किया जा रहा है. इस ओर भी तहसीलदार मुकुंâदे का ध्यान होना चाहिए. तहसील से शेगांव, तेल्हारा, अकोला की ओर वाहनों में रेत ढोकर ले जाते है. ऐसे में कही पकड़े न जाए इस डर से चालक तेज गति से वाहन चलाते है. जिससे कई बार दुर्घटनाएं हुयी है. इस ओर जिले के वरिष्ठ अधिकारी ध्यान देकर रेती तस्करी को रोक लगाए ऐसी मांग की जा रही है.

संग्रामपुर तहसील में रोजाना बड़े पैमाने पर रेत तस्करी हो रही है. जस्तगांव नदी पात्र से तथा तहसील के नदी नालो से रेत का उत्खनन किया जा रहा है. इस संदर्भ में जिलाधिकारी कार्रवाई करे ऐसी मांग सामाजिक कार्यकर्ता भाऊ भोजने ने की है.