वरिष्ठ अधिकारियों की सुरक्षा दांव पर

चिखली. बुलढाना जिले में अपर जिलाधिकारी साइकिल से बिना किसी सुरक्षा कार्यालय आते जाते देखे जा रहे हैं, जो एक चर्चा का विषय बन गया है. वास्तविकता जानने के बाद पता चला कि, रेती माफियाओं के खिलाफ धड़ल्ले

चिखली. बुलढाना जिले में अपर जिलाधिकारी साइकिल से बिना किसी सुरक्षा कार्यालय आते जाते देखे जा रहे हैं, जो एक चर्चा का विषय बन गया है. वास्तविकता जानने के बाद पता चला कि, रेती माफियाओं के खिलाफ धड़ल्ले से कारवाई करने के लिए पहचाने जाने वाले बुलढाना जिले के अपर जिलाधिकारी प्रमोदसिंह दुबे को अज्ञात लोगों द्वारा मानसिक रूप से परेशान करने का मामला सामने आया. जिसके बाद प्रमोदसिंह दुबे ने बिना किसी डर के अपनी सुरक्षा गन को व सुरक्षा को छोड़ साइकिल से चलना शुरू कर दिया है.

दुबे निवासस्थान के प्रवेश द्वार पर लगी दो नेमप्लेट को भी अज्ञात व्यक्तिओं ने तोड़कर सरकारी संपत्ति का नुकसान कर अधिकारी पर मानसिक प्रताड़ना करने की कोशिश की. इनके साथ ऐसा पहली बार नहीं हुआ है. इसके पहले भी अज्ञात लोगों द्वारा अधिकारी के निवास स्थान के गेट को बाहर से चैन बांध कर ताला लगा दिया था.

अधिकारी दुबे ने कहा कि, मेरे नाम की नेम प्लेट तोड़ी उसका मुझे गुस्सा नहीं आया. किन्तु निवास स्थान पर महान संत चोखामेला के नाम की नेम प्लेट भी तोड़कर लेकर गए उस बात का काफी गुस्सा आया है.

बता दें कि, आये दिन रेती माफियाओं द्वारा अधिकारियों पर जानलेवा हमला होते आया है. कई अधिकारियों को अपनी जान तक गंवानी पड़ी. अगर बात बुलढाना जिले की करे तो, यहां अधिकारियों के घर की सुरक्षा में किसी प्रकार का सीसीटीवी का प्रयोजन सरकार द्वारा नहीं किया गया. इसके पूर्व भी जिलाधिकारी के निवास स्थान में दीवार फांद कर एक अज्ञात व्यक्ति घुस गया था. प्रमोदसिंह दुबे ने पुलिस में अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ मामला दर्ज करवा दिया है. आगे की जांच पुलिस कर रही है.