रेशम खेती कर आर्थिक उन्नति करें, जिलाधिकारी चंद्रा ने किया रेशम रथ का उद्धघाटन किया गया

बुलढाना (का). जिले के किसान बंधु महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार हमी योजना अंतर्गत रेशम की खेती करें, रेशम विकास प्रकल्प पर प्रभावी अमल कर स्वयं को उक्त माध्यम से आने वाले उत्पन्न से अपनी व

बुलढाना (का). जिले के किसान बंधु महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार हमी योजना अंतर्गत रेशम की खेती करें, रेशम विकास प्रकल्प पर प्रभावी अमल कर स्वयं को उक्त माध्यम से आने वाले उत्पन्न से अपनी व अपने परिवार की उन्नति करें, यह आह्वान जिलाधिकारी डा.सुमन चंद्रा ने व्यक्त किया. जिलाधिकारी कार्यालय परिसर में महारेशम अभियान के अंतर्गत रेशम खेती की जानकारी देने हेतु जिले भर में चलित वाहन रथ का उद्धघाटन जिलाधिकारी सुमन चंद्रा के हाथों किया गया.

इस अवसर पर निवासी उप जिलाधिकारी कैलास देवरे, उप जिलाधिकारी (रोहयो) अनिल माचेवाड, जिला रेशम विकास अधिकारी संजय धामणे, प्रकल्प अधिकारी सुनीलदत्त फड़के, तकनिकी सहायक भैरूलाल कुमावत, नरेंद्र साहू, रोहयो विभाग के कलंत्रे, श्रीवास्तव आदि की उपस्थिति थी. बता दें की शासन निर्णय के अनुसार रेशम खेती हेतु सभी किसानों को रेशम के संदर्भ में विस्तृत जानकारी के साथ ही प्रचार व प्रसार करने हेतु रथ जिला प्रशासन द्वारा अभियान अंतर्गत रथ का आयोजन किया गया. जिसके अंतर्गत रेशम खेती करने हेतु उत्सुक किसानों का पंजीयन भी किया जाएगा. साथ ही कृषि विभाग द्वारा चलाए जाने वाले नानाजी देशमुख कृषि संजीवनी योजना अंतर्गत जिले के 441 गांवों में रेशम खेती विकास प्रकल्प चलाए जाने हेतु प्रसिद्धी दी जाएंगी. इस योजना से रोप वाटिका,रेशम कीटक पालन सामग्री व पालन गृह हेतु अनुदान दिया जाएगा. मनरेगा अंतर्गत उक्त संदर्भ में तीन वर्ष में 2 लाख 95 हजार 150 रुपये का अनुसान, कुशल व अकुशल स्वरूप में दिया जाएगा. इसलिए जिले के अधिकाधिक किसान रेशम योजना का लाभ लें, यह आह्वान जिला रेशम कार्यालय द्वारा किया गया है.