बैंक प्रबंधक द्वारा पैसों की मांग

संग्रामपुर. खरीफ मौसम में बुआई करने के लिए किसानों के पास पैसा नहीं हैं, बैंक कर्ज नहीं दे रही, इसके अलावा बैंक प्रबंधक द्वारा अतिरिक्त पैसों की मांग एक नई समस्या किसानों के सामने खड़ी हुई हैं.

संग्रामपुर. खरीफ मौसम में बुआई करने के लिए किसानों के पास पैसा नहीं हैं, बैंक कर्ज नहीं दे रही, इसके अलावा बैंक प्रबंधक द्वारा अतिरिक्त पैसों की मांग एक नई समस्या किसानों के सामने खड़ी हुई हैं. इसलिए शाखा प्रबंधक के खिलाफ कार्रवाई की जाए, नहीं तो तहसील में ठिय्या आंदोलन करने की चेतावनी किसानों ने दी हैं.

जिला अधिकारी को दिए ज्ञापन में कहा हैं कि, जिन किसानों पर जिला सहकारी बैंक पातुर्डा शाखा का कर्ज था उन किसानों को कर्ज माफी मिली हैं. इसके बाद नये फसल कर्ज के लिए उन्होंने सभी कागजात बैंक प्रबंधक सुर्वे के पास जमा किए. इन किसानों को एटीएम कार्ड भी दिया. किंतु किसान जब पैसे निकालने गए तब उनके खाते में रकम जमा नहीं थी. इसलिए सभी किसानों ने बैंक जाकर प्रबंधक सुर्वे से जवाब तलब किया. इसपर उन्होंने हर एक किसान ने 2,000 रुपये देने पर एटीएम कार्ड शुरू होगा. ऐसा कहकर सभी को अचंभित कर दिया.

राज्य सरकार के ‘छत्रपति शिवाजी महाराज शेतकरी सन्मान योजना’ किसानों को समस्याओं के घेरे में ला रही हैं. कर्ज माफी की वजह से नया फसल कर्ज मिलने में दिक्कत हो रही हैं. विगत 4 वर्षों से उत्पादन न होने के कारण किसान आर्थिक परेशानी में है. ज्ञापन देते समय महादेव मेहंगे, संतोष इंगले, पंढरी भिसे, पांडुरंग भिसे, नारायण भिसे, कैलास झामरे, राजेश सुरलकार, नीलेश सुरलकार इनके समेत किसान उपस्थित थे.