तहसीलदार के सामने किसान ने गटका जहर

चिखली. खेत में रास्ता खुला करने के विरोध में चिखली तहसील के किन्ही सवडत के किसान सिद्धार्थ मोहन मिसाल ने तहसीलदार तथा पुलिस बंदोबस्त के सामने जहर पीकर आत्महत्या करने का प्रयास किया. किसान को जिला

चिखली. खेत में रास्ता खुला करने के विरोध में चिखली तहसील के किन्ही सवडत के किसान सिद्धार्थ मोहन मिसाल ने तहसीलदार तथा पुलिस बंदोबस्त के सामने जहर पीकर आत्महत्या करने का प्रयास किया. किसान को जिला सामान्य अस्पताल बुलढाना में उपचार हेतु दाखिल किया गया.

प्राप्त जानकारी के अनुसार तहसील के किन्ही सवडत ग्राम के मोहन केरूजी मिसाल का कुसुंबी परिसर उंद्री-लाखनवाडा रास्ते पर गुट नंबर ८ में ९ एकड़ खेत है खेत में रास्ते को लेकर भरत दामोदर आरज, दिलीप दामोदर आरज, साहबराव आत्माराम तोले, शेख कदिर शे मजीद, प्रल्हाद रामचंद्र ने तहसील कार्यालय चिखली में उपरोक्त रास्ते को लेकर मामला दर्ज किया हुआ है. उपरोक्त मामले में तहसीलदार झाल्टे ने किसान मोहन मिसाल के विरोध में फैसला सुनाते हुए २४ अगस्ट २०१७ को खेत का रास्ता खुला करने का आदेश दिया जिस पर मिसाल ने उपविभागीय अधिकारी बुलढाना मामलदार एक्ट की धारा २3 के अनुसार रिव्हिजन के लिए ६ सितंबर २०१७ को अपील दाखिल की. जिस पर करीब १२ से १५ सुनावाई की गई है. किंतु शुक्रवार को नायब तहसीलदार कुणाल झाल्टे, मंडलअधिकारी पिंगले, पटवारी चामलाठे, कोतवाल पिंटु घोलके की उपस्थिति तथा अमडापुर पुलिस थाने के ४ पुलिस कर्मी व २ महिला पुलिस कर्मी के बंदोबस्त में किसान मोहन मिसाल का बेटा सिद्धार्थ मिसाल ने जहर पीकर आत्महत्या करने का प्रयास किया. जिसपर जिला सामान्य अस्पाताल में उपचार शुरू है.

उपरोक्त खेत के रास्ते का मामला अभी उपविभागीय अधिकारी के पास शुरू होने के बावजूद नायब तहसीलदार ने पुलिस बंदोबस्त के साथ खेत में दाखिल हुए व खेत में रास्ता खुला करने के लिए फसल का नुकसान किया ऐसा आरोप मिसाल ने लगाया.