दाभोलकर हत्या मामला के सरगनाओं को करें गिरफ्तार

बुलढाना. समाज में के अंधविश्वास को दूर कर लोगों में वैज्ञानिक दृष्टिकोण को बढ़ावा देने के लिए प्रयासरत समाजसेवी डा. नरेंद्र दाभोलकर की 5 वर्ष पूर्व हत्या कर दी गई थी. इस हत्या में शामिल हत्यारों को

बुलढाना. समाज में के अंधविश्वास को दूर कर लोगों में वैज्ञानिक दृष्टिकोण को बढ़ावा देने के लिए प्रयासरत समाजसेवी डा. नरेंद्र दाभोलकर की 5 वर्ष पूर्व हत्या कर दी गई थी. इस हत्या में शामिल हत्यारों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया. लेकिन हत्या की साजिश रचने वाले सरगनाओं को •भी जल्द से जल्द गिरफ्तार कर उन्हें कानूनी सजा दिलाएं, ऐसी मांग महाराष्ट्र अंधश्रध्दा निर्मूलन समिति की ओर से एक ज्ञापन के माध्यम से जिलाधिकारी डा. निरुपमा डांगे की ओर की गई.

20 अगस्त 2013 को डा. नरेंद्र दाभोलकर की हत्या की गई थी. इस हत्या को अ•भी 5 वर्ष पूरे हो गए. इस हत्या के निषेध में महाराष्ट्र अंधश्रध्दा निर्मूलन समिति की ओर से पूरे राज्य में जवाब दो आंदोलन की घोषणा की गई थी. इसी आंदोलन के तहत महाराष्ट्र अंनिस के पदाधिकारी जिलाधिकारी कार्यालय पहुंचे और उन्होंने जिलाधिकारी डा. डांगे को ज्ञापन सौंपा.

जल्द से जल्द कार्रवाई कर दोषियों को पकड़े
ज्ञापन में कहा गया है कि, डा. नरेंद्र दाभोलकर की हत्या को अ•भी पांच वर्ष बीत गए है. इन पांच वर्षों में सरकारी यंत्रणाओं व्दारा हो रही जांच पर काफी सुस्त चाल से चल रही है. इस मामले में पुलिस और सीबीआई को हत्यारों को गिरफ्तार करने में 5 साल लग गए.

साथ ही कामरेड गोविंद पानसरे, समाजसेवी डा. एम. एम. कलबुर्गी तथा लंकेश पत्रिका की संपादिका गौरी लंकेश की हत्याओं के मामले •भी इसी कड़ी का एक हिस्सा है. इन स•भी हत्याओं में जिन लोगों पर शक की सुई जा रही है उन तक अ•भी कानून के हाथ नहीं पहुंच रहे है. इसलिए इन स•भी मामलों में जल्द से जल्द कार्रवाई करते हुए दोषियों पकड़ा जाएं.

ज्ञापन पर महाराष्ट्र अंनिस के जिला कार्याध्यक्ष प्रदीप हिवाले, जिला अध्यक्ष प्रा. रवींद्र आंबेकर, नरेंद्र लांजेवार, सचिव पंजाबराव गायकवाड, शाहिना पठाण, मृणालीनी सपकाल, सचिव अरविंद शिंगाडे, सुधीर देशमुख, डा. विजया काकडे, सुरेश साबले, शाहीर डी. आर. इंगले, प्रशांत सोनोने, एड. गणेश देशमुख आदि ने हस्ताक्षर किए.