जलाशय हुए लबालब

बुलढाना. जिले में पिछले दो दिनों से हो रही झमाझम बारिश के चलते पूरा जिला बारिश से सराबोर हो गया है. बारिश के कारण जहां एक ओर फसलों को जीवनदान मिला, वहीं जिले के जलाशयों में भी बढोतरी हुई है. बुलढाना

बुलढाना. जिले में पिछले दो दिनों से हो रही झमाझम बारिश के चलते पूरा जिला बारिश से सराबोर हो गया है. बारिश के कारण जहां एक ओर फसलों को जीवनदान मिला, वहीं जिले के जलाशयों में भी बढोतरी हुई है. बुलढाना शहर को जलापूर्ति करने वाला येलगांव बांध 90 प्रतिशत भर गया है.

मौसम की शुरुआत में यानी जून-जुलाई में जिले में काफी कम बारिश हुई. इसके साथ ही अगस्त के पहले दो हफ्तों में बारिश न होने से जिले में एक ओर जहां फसलों की हालत काफी खराब हो गयी थी, वहीं जिले के सभी जलाशयों की स्थिति भी काफी नाजूक बनी हुई थी. इस स्थिति के चलते जिले में जलकिल्लत का खतरा भी मंडरा रहा था.

खिल उठे किसानों के चेहरे
लेकिन स्वतंत्रता दिवस जिले के लिए बारिश के हिसाब से काफी अच्छा रहा. जिले में अच्छी बारिश हुई. इस बारिश से जिले में फस को काफी राहत मिली, जिससे किसानों के चेहरों पर मुस्कान लौट आई. 19 अगस्त से जिले में फिर एक बार झमाझम बारिश शुरू हुई. 20 और 21 अगस्त को बारिश की जोरदार उपस्थिति रही. इस बारिश के चलते जिले के जलाशयों में बढोतरी हुई. जिले में अब तक 60 प्रतिशत तक बारिश दर्ज होने की जानकारी जिलाधिकारी कार्यालय की ओर से दी गई.

तहसील निहाय बारिश का प्रतिशत
बुलढाना – ६९.४८ प्रतिशत, चिखली- ६3.१६, देऊळगांवराजा -६०.६६, सिंदखेडराजा ७१.७१, लोणार – ६५.७७, मेहकर- ७४.१८, खामगाव – ४४.3२, शेगांव – ५४.८०, मलकापुर – ५९.०६, नांदुरा – ४१.६६, मोताला – ६२.४०, संग्रामपुर – ५3.१५, जळगांव जामोद – ६४.४५ प्रतिशत है.