सरकारी अस्पताल के कर्मचारी की हुई मौत, डाक्टर की लापरवाही का लगा आरोप

बुलढाना (का). सरकारी अस्पतालों की हालत खराब हो चुकी है. यहां आम जनता को उचित स्वास्थ्य सुविधाएं नहीं मिल पा रही है. हाल ही में सरकारी अस्पताल में काम करने वाले कर्मचारी की •इसी अस्पताल में मौत

बुलढाना (का). सरकारी अस्पतालों की हालत खराब हो चुकी है. यहां आम जनता को उचित स्वास्थ्य सुविधाएं नहीं मिल पा रही है. हाल ही में सरकारी अस्पताल में काम करने वाले कर्मचारी की •इसी अस्पताल में मौत होने का मामला उजागर हुआ. कर्मचारी की यह मौत डाक्टरों की लापरवाही के कारण हुई ऐसा आरोप लग रहा है.

प्राप्त जानकारी के अनुसार, बुलढाना जिला सरकारी अस्पताल में कक्षसेवक के तौर पर काम करने वाला कर्मचारी चंद्रशेखर राजाराम जाधव (उम्र 40) हर रोज की तरह सुबह 8 बजे अपने ड्युटी पर आया. लेकिन कुछ ही देर में उसे छाती में दर्द होने लगा. उसे फौरन ही अस्पताल में भर्ती कराया गया.

वक्त रहते नहीं मिला इलाज

वहां ड्यूटी पर तैनात डाक्टर सुनील राजपूत को चंद्रशेखर पर इलाज कराने के लिए बुलाया गया. लेकिन डाक्टर जल्दी नहीं पहुंचे. वक्त रहते इलाज न मिलने के कारण चंद्रशेखर की मौत हो गयी. चंद्रशेखर की मौत केवल डाक्टरों की लापरवाही के चलते हुई, ऐसा आरोप मृतक के परिजन तथा चतुर्थश्रेणी कर्मचारी संगठन के अध्यक्ष रमेश तोंडिलायता ने किया. इन स•भी ने वहां पर उपस्थित निवासी डाक्टर अस्लम को जमकर फटकार लगाई. इस घटना से कुछ देर तक सरकारी अस्पताल में तनाव फैल गया था. इस मामले में आरएमओ अस्लम ने दोषी डाक्टर को कारण बताओ नोटिस दिया है. नोटिस का उचित उत्तर न मिलने पर दोषी डाक्टर पर कार्रवाई के संकेत डा. अस्लम ने दिए.

डाक्टरों या कर्मचारियों की लापरवाही के चलते आम जनता को सरकारी अस्पतालों में कई बार तकलीफों का सामना करना पड़ता है. पहली इस बार सरकारी अस्पताल के कर्मचारी की ही लापरवाही से मौत होने का मामला उजागर होने से आश्चर्य व्यक्त हो रहा है.