स्वाभिमानी का चक्काजाम आंदोलन

खामगांव. राज्य में सूखा घोषित करने की मांग समेत किसानों की विभिन्न मांगो को लेकर स्वाभिमानी शेतकरी संगठन ने शनिवार को पूरे राज्य में चक्काजाम आंदोलन किया. स्वाभिमानी के जिलाध्यक्ष कैâलास फाटे

खामगांव. राज्य में सूखा घोषित करने की मांग समेत किसानों की विभिन्न मांगो को लेकर स्वाभिमानी शेतकरी संगठन ने शनिवार को पूरे राज्य में चक्काजाम आंदोलन किया. स्वाभिमानी के जिलाध्यक्ष कैâलास फाटे के नेतृत्व में अकोला रोड पर टेभुर्णा फाटे पर सुबह १० बजे चक्काजाम आंदोलन किया गया, जिससे कुछ देर तक यातायात ठप्प हो गई थी. आंदोलन की जानकारी मिलते ही पुलिस ने स्वाभिमानी के कार्यकर्ताओं को डिटेन कर ग्रामीण पुलिस थाने मे लाया. बाद में उन्हे छोड़ा गया. इस आंदोलन में राजू नाखाडे, शेख युनुस शेख युसुफ, रोहन देशमुख, दिनकर टिकार, राजू गवई, संजय बोचरे, चंदकांत टेरे, गजानन पटोकार आदी कार्यकतर्र्ता शामिल हुए थे.

वरवट बकाल में भी आंदोलन
किसानों की विभिन्न मांगो को लेकर शनिवार को तहसील के वरवट बकाल बस स्टाप के पास स्वाभिमानी शेतकरी संगठन की ओर से चक्काजाम आंदोलन किया गया, जिसका नेतृत्व स्वाभिमानी के प्रदेश अध्यक्ष रविकांत तुपकर ने किया. आंदोलन के दौरान कार्यकर्ताओं ने रोडपर टायर जलाने से यातायात में बाधा निर्माण हुई थी. साथ ही किसानो ने रोडपर कपास और सोयाबीन फेंककर सरकार के किसान विरोधी नीति का विरोध किया, इस आंदोलन में युवा आघाडी के जिलाध्यक्ष प्रशांत डिक्कर,युवा आघाडी के तहसील अध्यक्ष राहूल मारोडे , उज्वल चोपडे, जळगाव जा. तहसील अध्यक्ष नितीन पाचपोर, योगेश मुरूख, रोशन देशमुख, सागर खानझोडे, रामेश्वर घाटे, गणेश वहितकर, गजानन आमझरे, विलास तराले, राजू उमाले, भगवान तायडे, मोहन पाटिल समेत किसान बड़ी संख्या में शामिल हुए थे.