Lakhs of dust are building, awaiting the launch of Revenue Board Office for 3 years

मलकापुर. शहर में कई इमारतें खंडहर के रूप में खड़ी है. इन इमारतों को गिराने की बजाए उसकी ओर अनदेखी की जा रही है. नियम के अनुसार कालबाह्य हुयी इन इमारतों को गिराना जरूरी है. क्योंकि इन इमारतों को गिरने

मलकापुर. शहर में कई इमारतें खंडहर के रूप में खड़ी है. इन इमारतों को गिराने की बजाए उसकी ओर अनदेखी की जा रही है. नियम के अनुसार कालबाह्य हुयी इन इमारतों को गिराना जरूरी है. क्योंकि इन इमारतों को गिरने पर कोई दुर्घटना ना हो. किंâतु नप मुख्याधिकारी की इस ओर उदासीन रवैया होने से आश्चर्य व्यक्त किया जा रहा है.

झुकी हुई दिखाई देती है इमारत
शहर में की इमारतें खंडहर हो गई है. जिसमें से कुछ इमारतें मुख्य मार्ग पर है. ऐसी ही एक इमारत साप्ताहिक बाजार समीप निमवाड़ी चौक में है. जो १२५ साल पुरानी है और कभी भी गिर सकती है. इस इमारत की ओर देखने के बाद यह एक तरफ झुकी हुई नजर आती है. वह कब गिरेगी इसका कोई अंदेशा नही है. इस इमारत के सामने से जानेवाली सड़क पर हमेशा यातायात शुरू रहता है. ऐसे में इमारत गिरने से दुर्घटना होनेपर जानमाल का नुकसान होने की संभावना है. नागरिकों ने इस बात को प्रशासन गंभीरता से लेकर कार्रवाई करें ऐसी मांग हो रही है.