न्यायालय इमारत का निर्माण करने की मांग

संग्रामपुर. वर्ष २००८ में न्यायालय स्थापित हुआ है. जब से न्यायालय का कामकाज किराये के जगह में चल रहा है. यह जगह छोटी होने के कारण वकील, पक्षकारों को दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है. न्यायालय परिसर

संग्रामपुर. वर्ष २००८ में न्यायालय स्थापित हुआ है. जब से न्यायालय का कामकाज किराये के जगह में चल रहा है. यह जगह छोटी होने के कारण वकील, पक्षकारों को दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है. न्यायालय परिसर में पार्किंग के लिये जगह, महिला वकीलों के लिये अलग से बार रूम, प्रसाधन गृह नहीं होने कारण इस समस्या को हल करने के लिये न्यायालय की स्वतंत्र इमारत होना जरूरी है. इसके लिये न्यायालय के बाजू में नयी इमारत के लिये ई क्लास की जमीन संपादन करने हेतु न्याय व विधी विभाग मुंबई की ओर प्रस्ताव भेजा गया था. किंतु अब तक कोई कार्रवाई नही हुयी. इसलिये यहां पर न्यायालय की इमारत का निर्माण कार्य किये जाने की मांग संग्रामपूर तालुका बार असोसिएशन की ओर से अध्यक्ष एड. पि.के.घाटे ने गृह राज्य मंत्री तथा विधी व न्याय राज्य मंत्री रणजीत पाटिल ने एक निवेदन व्दारा की है.