पुनर्वसित गांव के आदीवासी बच्चे शिक्षा से वंचित

संग्रामपुर. मेलघाट व्याघ्र प्रकल्प के तहत तहसील के सोनाला समीप के रोहीण खिडकी (गुमठी) इस आदिवासी गांव का ८ अप्रैल २०१७ को पुनर्वसन किया गया. किंतु सरकार ने इस गांव के लिए कोई भी योजनाएं कार्यान्वित

संग्रामपुर. मेलघाट व्याघ्र प्रकल्प के तहत तहसील के सोनाला समीप के रोहीण खिडकी (गुमठी) इस आदिवासी गांव का ८ अप्रैल २०१७ को पुनर्वसन किया गया. किंतु सरकार ने इस गांव के लिए कोई भी योजनाएं कार्यान्वित नहीं की. या तो शिक्षा जैसे सुविधा भी उपलब्ध नहीं करवाई. जिससे आदिवासी बच्चों का भविष्य अंधकारमय होता हुआ दिखायी दे रहा है.

कम से कम इन बच्चों को शिक्षा हेतु रोहिण खिडकी गांव में आंगनवाड़ी की व्यवस्था की जाए. ऐसी मांग संभाजी ब्रिगेड कार्यकर्ताओं की ओर से तहसीलदार को १९ दिसंबर को एक निवेदन व्दारा की गयी है. इस निवेदन पर जिला उपाध्यक्ष संतीष वानखडे, गजानन ढोले, प्रतिक गावंडे, आहेबराव वाघाड, कैलास खोटे, मिलींद वानखडे आदि के हस्ताक्षर हैं.