Public health in danger due to contaminated water supply

खामगांव. शहर से जानेवाले नेशनल हाइवे का बालापुर नाके से एमआयडीसी बाईपास नांदुरा रोड तक ७ कि.मी.दूरी का चौड़ाईकरण का काम चल रहा है. इस दौरान संबंधित ठेकेदार ने मनमानी करते हुए शहर को जलापूर्ति करने

खामगांव. शहर से जानेवाले नेशनल हाइवे का बालापुर नाके से एमआयडीसी बाईपास नांदुरा रोड तक ७ कि.मी.दूरी का चौड़ाईकरण का काम चल रहा है. इस दौरान संबंधित ठेकेदार ने मनमानी करते हुए शहर को जलापूर्ति करने वाली पाइप लाइन के उपर ही नाली का निर्माण कार्य शुरू किया है. इससे भविष्य में शहर की जलापूर्ति प्रभावित हो सकती है. इसलिए सबसे पहले जलापूर्ति पाइप लाइन का शिफäटिंग करे उसके बाद ही रास्ते का नाली का निर्माण कार्य किया जाए ऐसा पत्र नप मुख्याधिकारी ने भारतीय राष्ट्रीय महामार्ग प्राधिकरण विभाग अमरावती के प्रोजेक्ट डायरेक्टर को दिया है.

इस रास्ते के निर्माण कार्य दौरान बालापुर पैâल परिसर में रास्ते के दोनों बाजू में नाली निर्माण कार्य शुरू किया गया है.

यहां पर शहर को जलापूर्ति करने काली मुख्य पाइप लाइन के उपर ही नाली का निर्माण कार्य किया जा रहा है. वास्तविक रुप से यह कार्य करने के पहले ही पाइप लाइन का शिफäटिंग करना अनिवार्य था. क्योंकि न.प.की जलआपूर्ति विभाग की ओर से २७ जुलाई २०१८ के पत्रा नुसार शहर से जाने काले नेशनल हाईवे के नीचे से जानेवाली जलापूर्ति पाइप लाइन शिफäटिंग संदर्भ में बजट राष्ट्रीय महामार्ग प्राधिकरण को पेश किया था.

ठेकेदार की अनदेखी
जिसमें केवल २० प्रतिशत पाइप खरीदी करने का सुझाव दिया था. क्योंकि उक्त तरीके âसे पाइप लाइन नाली निर्माण कार्य के नीचे दबने से जलापूर्ति प्रभावित हो सकती है. किंâतु ज्यांन्दु कन्ट्रक्शन कंपनी ने पाइप लाइन शिफäटिंग न करते हुए नाली निर्माण कार्य शुरू किया है. इस संदर्भ में हर बार सुचित करने के बाद भी ठेकेदार उचित ढंग से निर्माण कार्य नहीं कर रहा है.मुख्याधिकारी ने पत्र में कहा शीघ्र काम को रोका जाए व सबसे पहले पाइप लाइन शिफäटिंग का काम किया जाए.

व्यापारी, दूकानदार व नागरिकों को परेशानी
इसके अलावा विकमसी चौक से तिलक पुतले तक रास्ते का काम मध्य रेखा (सेंटर लाईन) छोड़कर किया जा रहा है. ऐसी ही स्थिति बस स्थानक चौक के टॉवर चौक क नांदुरा रोड बायपास तक बरकरार है. जिससे शहर के व्यापारी, दूकानदार क नागरिकों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. नेशनल हाईवे प्राधिकरण के कुछ अधिकारी क ठेकेदार अपना हित साध्य करने के लिए मिलीभगत कर रास्ते के नक्शे में बदलाव करने का प्रयास कर रहे है. ऐसा आरोप भी नागरिकों ने लगाया है. इस वक्त नेशनल हाईवे प्राधिकरण के प्रकल्प संचालक विलास ब्राम्हणकर ने रास्ते का चौडाईकरण करते समय सेंटर लाईन में चेंज होना स्काभाकिक है. साथ ही काम करते समय आने वाली बाधाओं को दूर कर काम को गति देने का प्रयास किया जा रहा है. नेशनल हाईवे के लिए अधिग्रहित जगह में ही काम किया जा रहा है. इससे किसी का भी नुकसान करने का इरादा नहीं है.

पाइप लाइन लीक होने से रास्ता होता है खोखला
इसके पुर्व एमआयडीसी – बालापुर नाके तक बायपास का निर्माण कार्य किया गया तब जलका भडंग काटर फिल्टर से शहर को जलआपूर्ति करनेवाले पाइप लाइन को घाटपुरी गांव समीप रोड के नीचे दबा दिया गया था. जिस कारण पाइप लाइन लीक होने से भीतर से रास्ता खोकला होने के कारण रास्ते से चलता ट्रक अचानक रास्ते में फस गया था.