Bribe

शेगांव. निवासी प्लाट को व्यावसायिक उपयोग के लिए पंजीयन करने के लिए 1.2 लाख रु. की रिश्वत लेने के मामला में शेगांव नगर पालिका के मुख्याधिकारी अतुल पंत एवं कैशियर आर.पी.इंगले को सुबह 9 बजे बुलढाना के

शेगांव. निवासी प्लाट को व्यावसायिक उपयोग के लिए पंजीयन करने के लिए 1.2 लाख रु. की रिश्वत लेने के मामला में शेगांव नगर पालिका के मुख्याधिकारी अतुल पंत एवं कैशियर आर.पी.इंगले को सुबह 9 बजे बुलढाना के भ्रष्टाचार प्रतिबंधक विभाग ने रंगेहाथ धर दबोचा. इस कार्रवाई से नप कर्मचारियों में खलबली मच गई.

निवासी जगह का व्यावसायिक पंजीयन के लिए मांगी रकम
शिकायतकर्ता ने शेगांव शहर में वाइन बार का व्यावसाय शुरू करने के लिए सर्वे नं. 329/1प्लॉट नं 11 शेगांव-खामगांव मार्ग पर नोटरी द्वारा किराए पर लिया. संबंधित प्लाट पर बार एवं रेस्टारेंट शुरू करने के लिए मुख्याधिकारी की एनओसी की आवश्यकता थी. निवासी प्लॉट का व्यावसायिक उपयोग विषय हेतु पंजीयन करने के लिए कागज़ात नगर पालिका में पेश किए गए. पंजीयन करने के लिए मुख्याधिकारी ने 5 लाख रुपये की रिश्वत की मांग कैशियर मार्फत की. इसके बाद 1 लाख 20 हजार रु. देना तय हुआ. शिकायतकर्ता ने इसकी शिकायत बुलढाना के भ्रष्टाचार प्रतिबंधक विभाग में की.

1.20 लाख लेते दबोचा
रिश्वत मांगने की शिकायत मिलने पर एसीबी के 2 दस्तों ने अलग-अलग दो जगहों पर जाल बिछाकर एक ही समय में शेगांव पालिका के मुख्याधिकारी अतुल पंत एवं कैशियर आर. पी. इंगले दोनों के घर पर छापामारी की. इस बीच मुख्याधिकारी तथा कैशियर के दरमियान संभाषण हुआ. मुख्याधिकारी के कहने पर 1 लाख 20 हजार की रकम स्वीकारते हुए कैशियर आर.पी. इंगले को हिरासत में लिया गया. ठीक इसी समय दूसरे दस्ते ने मुख्याधिकारी को भी हिरासत में लिया. शेगांव पुलिस थाने में दोनों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया. उक्त कार्रवाई एसीबी अमरावती परिक्षेत्र के पुलिस अधीक्षक श्रीकांत घिवरे, बुलढाना के अपर पुलिस अधीक्षक पंजाबराव डोंगरदिवे, पुलिस उपअधीक्षक शैलेश जाधव के मार्गदर्शन में पुलिस निरीक्षक प्रवीण खंडारे, एएसआई शाम भांगे एवं पुलिसकर्मी दीपक लेकुरवाले, विनोद लोखंडे, प्रवीण बैरागी, जगदीश पवार, शेख अर्शीद ने की.