rape
Representational Pic

चिखली. २६ अप्रैल की रात एक ९ वर्षीय नाबालिक बच्ची के साथ हुए सामूहिक अत्याचार की खबर के बाद पूरा शहर सुन्न हो गया था. शहर में हर जगह अत्याचारियों के खिलाफ द्वेष और गुस्सा फूट कर बाहर आता हुआ नजर आ

चिखली. २६ अप्रैल की रात एक ९ वर्षीय नाबालिक बच्ची के साथ हुए सामूहिक अत्याचार की खबर के बाद पूरा शहर सुन्न हो गया था. शहर में हर जगह अत्याचारियों के खिलाफ द्वेष और गुस्सा फूट कर बाहर आता हुआ नजर आ रहा था. हालांकि पुलिस ने तत्काल रूप से घटना की गंभीरता को देख एक अत्याचारी सागर बोरकर को गिरफ्तार कर लिया था. एक अभी भी पुलिस के पहुंच से बाहर है.

नाबालिक बच्ची की तबियत ज्यादा खराब होने की वजह से उसे उपचार के लिए बुलढाना जिला अस्पताल से औरंगाबाद रेफर करने की खबर के बाद शहर का माहौल गर्म है, बच्ची के सेहत के लिये लोग भगवान से प्रार्थना करते हुए नजर आ रहे है. इस आमानवीय अत्याचारी घटना के बाद शहर के हर तपके से इस घटना का निषेध किया जा रहा है. पुलिस पर अब दूसरे अत्याचारी को जल्द पकड़ सजा दिलवाने के लिए अब दबाव बढ़ता जा रहा है.

सोमवार २९ अप्रैल के दिन शहर के सभी जनता, व्यापारी, डॉक्टर, वकील, विविध संघटना, तथा सर्वपक्षीय लोगों ने इस बंद का आह्वान किया है. ज्ञात हो कि जिले के चिखली शहर में हैवानियत वाला मामला सामने आया है. हवस किस हद तक दिमाग पर हावी हो जाता है इसका ताजा मामला देखने को मिला. ९ साल की एक मासूम बच्ची के साथ सामूहिक बलात्कार कर उसे असहनीय पीड़ा में धकेला गया है. २६ अप्रैल की रात 1 बजे के दरमियान चिखली के कृषि उपज मंडी में हमाली कर गुजारा करने वाले दंपति अपने तीन बच्चियों के साथ मंडी में ही काम कर वही सोते थे.

मानसिक रूप से बीमार मां और खस्ता हालत वाले पिता की ९ वर्षीय मासूम बच्ची को आपराधिक विचारों वाले दो युवकों ने मां बाप को गहरी नींद में सोया हुआ देख उसे अपने स्कूटी पर मुंह दबाकर बैठाकर अगवाह कर लिया. जिसके बाद इन दरिंदों ने उसके साथ अमानवीय हरकत कर बारी-बारी दुष्कर्म किया. इस घटना से मासूम को असहाय पीड़ा का शिकार होना पड़ा, वह गंभीर रूप से जख्मी हो गई. बच्ची पर अत्याचार करने के बाद इन युवकों ने उसे स्थानीय मौनीबाबा संस्था के सामने लाकर पटक दिया. जख्मी हालत में खून से लथपथ बच्ची ने अपने माँ बाप के पास जाकर सारी आपबीती बतलायी.

जिसके बाद देर रात उसके मा बाप ने बच्ची के साथ चिखली पुलिस थाने जाकर शिकायत दर्ज करवाई. पुलिस ने घटना की गंभीरता को ध्यान में रख तुरंत हरकत में आयी. देर रात मुख्य आरोपियो में से एक २८ वर्षीय सागर बोरकर को हिरासत में ले लिया. तो दूसरे की तलाश में पुलिस जुटी हुई है.

– बच्ची की हालत नाजुक

बच्ची की नाजुक हालत देख थानेदार गुलाबराव वाघ ने बच्ची को तुरंत जिला अस्पताल इलाज के लिये रवाना कर दिया था, जहा उसकी हालत नाजुक बतायी जा रही है. चिखली पुलिस ने उपरोक्त मामले में अभी सिर्फ दो लोगों के खिलाफ धारा 3६६ अ, 3७६ डी. बी. तथा बालकों का लैंगिक अपराध से संरक्षण धारा ६ के अनुसार मामला दर्ज कर लिया है. आगे जांच एसडीपीओ बी.बी.महामुनि के मार्गदर्शन में चिखली के थानेदार स्वयं गुलाबराव वाघ कर रहे हैं.