आरोपियों को फांसी की सजा देने की मांग

चिखली. २६ अप्रैल के रात चिखली शहर में ९ वर्षीय लड़की को अगवा कर उस पर सामूहिक बलात्कार कर उसे गंभीर रूप से जख्मी करने की घटना सामने आने के बाद घटना को अंजाम देने वाले 2 आरोपियों के खिलाफ विविध धाराओ

चिखली. २६ अप्रैल के रात चिखली शहर में ९ वर्षीय लड़की को अगवा कर उस पर सामूहिक बलात्कार कर उसे गंभीर रूप से जख्मी करने की घटना सामने आने के बाद घटना को अंजाम देने वाले 2 आरोपियों के खिलाफ विविध धाराओ के तहत मामला दर्ज हुआ था. जिसके बाद उसी रात एक आरोपी को चिखली पुलिस ने धरदबोचा. दूसरे आरोपी को बुलढाना एलसीबी ने जाल बिछाकर हिरासत में लेकर जेल भेज दिया.

निकाला मूक मोर्चा
इस घटना का निषेध करने के लिए चिखली शहर में हजारों की संख्या में महिला पुरुषों ने सड़क पर उतर मूक मोर्चा निकाल तहसीलदार को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंप आरोपियों को फांसी की सजा देने की मांग की है. शहर में व्यापारियों ने अपने प्रतिष्ठान बंद रखे , सभी राजनीतिक पार्टी सामाजिक संघटना के लोग भी इस मोर्चे में मौजूद थे.

आरोपियों के परिवालों की ओर से धमकाने का आरोप
इस मोर्चे के दरमियान पीड़ित लड़की के परिवार वालों ने आरोप लगाया है कि, उन्हें आरोपियों के परिवार वालों की ओर से धमकाया जा रहा है. अपना गुस्सा जाहिर करते हुए पीड़ित लड़की के चाचा शंकर गवई और बुवा ज्योति अंभोरे ने कहा कि, आरोपी के परिवार वाले कह रहे हैं कि, चाहे जितना भी पैसा लगेगा हम लगाएंगे. हमारे बच्चों को छुड़वा सकते है. वह किसी भी हाल में छूटना नहीं चाहिये. आरोपियों को फांसी की सजा होना चाहिये. यह मांग पीड़ित लड़की के परिवार वालों समेत नागरिकों ने की.

घटना पर चिखली में तीव्र रोष है. इस पर कुछ वरिष्ठ लोगों ने अपनी राय रखी.

खेदजनक है: प्रिया
नगराध्यक्ष प्रिया बोन्द्रे ने कहा कि यह काफी खेदजनक घटना है, चिखली नगरपालिका की नगराध्यक्ष होने के नाते समस्त चिखली वासियों की ओर से कड़े शब्दों में इस घटना की निंदा करते हुए आरोपियों को कड़ी से कड़ी सजा देने की सरकार से मांग करते है.

 फास्टट्रैक कोर्ट में हो सुनावई : पालवे
समाज सेविका आरती नंदकुमार पालवे ने कहा कि, पाशवी अत्याचार के निषेधार्थ शांतिपूर्वक मोर्चा निकाला गया, इस वक्त हमने तहसीलदार के मार्फ़त सरकार को ज्ञापन देकर हमारी मांगे कही है. जिसमे इस मामले की सुनवाई फास्टट्रैक कोर्ट में कर आरोपियों को फांसी की सजा देने की मांग हमने की है.

चिखली का कोई वकील केस नहीं लड़ेगा : शेख
इस घटना के निषेध के लिए चिखली के बार असोसिएशन ने प्रस्ताव पारित कर हमने इस घटना का निषेध करते हुए चिखली बार एसोसिएशन का कोई भी वकील आरोपियों का केस न लड़ने का महत्वपूर्ण निर्णय लिया है. आरोपियों को कड़ी सजा की मांग हम सभी कर रहे हैं.