आदर्श ग्राम बनाने के लिए ग्रामीण सामूहिक प्रयास करे

खामगांव. राष्ट्रसंत तुकडोजी महाराज ने ग्रामगीता के माध्यम से मानवता ही धर्म होने की सीख दी है. उनके विचारों को आत्मसात करे. साथ ही किसान सुख संपन्न हो इसलिए अपना गांव आदर्श बनाने के लिए सभी जाति,

खामगांव. राष्ट्रसंत तुकडोजी महाराज ने ग्रामगीता के माध्यम से मानवता ही धर्म होने की सीख दी है. उनके विचारों को आत्मसात करे. साथ ही किसान सुख संपन्न हो इसलिए अपना गांव आदर्श बनाने के लिए सभी जाति, धर्म के लोगों को सामूहिक प्रयास करना जरूरी है. ऐसा प्रतिपादन पूर्व विधायक दिलीपकुमार सानंदा ने किया.

वे तहसील के रोहणा गांव में संदीपपाल महाराज के समाज प्रबोधन पर कीर्तन कार्यक्रम हुआ. इस वक्त वे बोल रहे थे. कार्यक्रम में पुर्व जि.प.अध्यक्षा वर्षाताई वनारे, सुरेश वनारे, सुरेशसिंह तोमर, पिंटु टिकार, विलाससिंग इंगले, मनिष देशमुख, राजेंद्रसिंह इंगले, शाम गायगोल, श्रीकांत देशमुख, मालुताई देशमुख, प्रल्हाद निमकर्डे आदी मान्यवर उपस्थित थे.

संदिपपाल महाराज इन्होने कीर्तन की माध्यम से समाज प्रबोधन करते हुए किसानोकी आत्महत्या, गो हत्या को रोक लगाने की आवश्यकता होकर हर गाव में स्वच्छता अभियान, बेटी बचाव, बेटी पढाओ अभियान चलाना चाहिए. साथही समाज के अनिष्ठ परंपराओपर प्रकाश डाला. सर्वप्रथम छत्रपती शिवाजी महाराज, महात्मा पुâले, संत गाडगेबाबा, भारतरत्न डा.बाबासाहब आंबेडकर, राजषाीa शाहू महाराज इनकी प्रतिमाओको सानंदा इनके हाथो माल्यार्पण कर दिपप्रज्वलनसे कार्यक्रम को प्रारंभ हुआ. कार्यक्रम को रोहणार, वर्णा, बोरजवला समेत परिसर के ग्रामीण बडी संख्या में उपस्थित थे.