चिखली. देश में इंदिरा गांधी शासनकाल में लादी गई आपातकालीन स्थिति के विरोध में मीसा बंदिओं द्वारा किया गया संघर्ष की वजह से ही आज हम सत्ता का स्वर्णिमकाल का अनुभव करने की बात पूर्व मंत्री विधायक एकनाथ

चिखली. देश में इंदिरा गांधी शासनकाल में लादी गई आपातकालीन स्थिति के विरोध में मीसा बंदिओं द्वारा किया गया संघर्ष की वजह से ही आज हम सत्ता का स्वर्णिमकाल का अनुभव करने की बात पूर्व मंत्री विधायक एकनाथ खडसे ने की. वें अखिल भारतीय लोकतंत्र स्वतंत्र सेनानी संघ की ओर से आयोजित सत्कार अवसर पर वह बोल रहे थे. आदर्श विद्यालय के प्रांगण में कार्यक्रम की अध्यक्षता शिक्षण प्रसारक मंडल के अध्यक्ष रामकृष्णदादा शेटे व विदर्भ वैधानिक विकास महामंडल के अध्यक्ष व भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष विधायक चैनसुख संचेती अतिथि थे. पूर्व नगराध्यक्ष भाऊसाहब लाहोटी, वरिष्ठ मीसाबंदी बाजीराव बापू डालिमकर, बुलढाना के पूर्व नगराध्यक्ष गोकुल शर्मा, चिखली अर्बन बैक के अध्यक्ष सतीश गुप्त, एड. वी. डी. पाटिल, योगेंद्र गोडे, संघ के जिलाध्यक्ष रामदास कारोडे, रामदास बीडकर आदि उपस्थित थे.

आपातकालीन स्थिति के विरोध में लड़ाई लड़ने वाले महाराष्ट्र के मीसा बंदिओं को राज्य शासन ने मासिक निवृत्ति वेतन लागू किया है. इसके लिए विधानसभा में इस मुख्य विषय को पूरा करने के लिए निरंतर प्रयास करने वाले विधायक एकनाथ खडसे का अभा लोकतंत्र स्वातंत्र्य सेनानी संघकी ओर से शाल, श्रीफल व स्मृतिचिन्ह देकर सत्कार किया गया. खडसे ने आपातकालीन स्थिति का वर्णन दूसरे स्वतंत्र संग्राम के रूप में कर कहा कि, लेखन स्वतंत्र, भाषण स्वतंत्र पर प्रतिबंध लगाकर लोकशाही की हत्या की थी. इस अत्याचार के विरुद्ध संघर्ष कर मीसा बंदिओं ने लोकशाही की पुनर्स्थापना की.

प्रमुख मेहमान के रूप में उपस्थित विधायक चैनसुख संचेती ने कहा कि, आपातकाल विरोध के लड़ाई में चिखली शहर व तहसील में लोकशाहीप्रेमी कार्यकर्ताओं ने महत्व का योगदान दिए होने की बात बताई.

इस अवसर पर कार्यक्रम के अध्यक्ष रामकृष्णदादा शेटे के जन्मदिवस पर उनका अभिष्टचिंतन किया गया. प्रस्तावना संघ के जिलाध्यक्ष रामदास कारोडे ने किया. सूत्रसंचालन नीलकंठ औटी ने किया. आभार प्रदर्शन गोपाल शेटे ने किया. चिखली शहर, तहसील व जिले के मीसाबंदी, उनके कुटुंबीय तथा भारतीय जनता पार्टी के पदाधिकारी और कार्यकर्ता बड़ी संख्या में उपस्थित थे. कार्यक्रम के सफलतार्थ संघ के जिला सचिव प्रकाश गुलवे, शिक्षा प्रसारक मंडल के सचिव प्रेमराज भाला, संघ के सदस्य विकास डालीमकर, आदर्श विद्यालय के मुख्याध्यापक मदनराव देशमुख, प्रमोद शेटे, सुधीर शेटे आदि ने परिश्रम किया.