चुनावी दंगल- तैयारी में जुटे नेता, कार्यकर्ता केवल बिगुल बजने का इंतजार

बुलढाना. लोकसभा चुनाव के बाद विधानसभा चुनाव के लिये बुलढाना विस निर्वाचन क्षेत्र के सभी जननेता चुनाव की तैयारी में लग चुके हैं. सिर्फ चुनावी बिगुल बजने का इंतजार बाकी है. लोकसभा चुनाव में पुनः

बुलढाना. लोकसभा चुनाव के बाद विधानसभा चुनाव के लिये बुलढाना विस निर्वाचन क्षेत्र के सभी जननेता चुनाव की तैयारी में लग चुके हैं. सिर्फ चुनावी बिगुल बजने का इंतजार बाकी है. लोकसभा चुनाव में पुनः शिवसेना ने अपना कब्जा भले ही बना लिया हो मगर बुलढाना विधानसभा क्षेत्र अभी कांग्रेस के कब्जे में है. आने वाले विधानसभा चुनाव के लिये संभावित सभी उम्मीदवार टिकट के जुगाड़ में जुट गए हैं.

विकास के काम जीत की राह : सपकाल

कांग्रेस के विधायक हर्षवर्धन सपकाल ने बताया कि उनके द्वारा किए गए विकास काम ही आगामी चुनाव में जीत की राह साबित होंगे. उन्हांने मोताला क्षेत्र में सड़क निर्माण, छात्रावास, प्राशासकीय इमारत का निर्माण तथा क्षेत्र के लिए न्यायालय की अलग मंजूरी प्राप्त करवाकर दी है. वहीं बुलढाणा में जलावर्धन एवं जलसंवर्धन के कामों को भी सफलतापूर्वक पूरा किया गया है. सामान्य जनता से जुड़े होने के साथ-साथ तगड़ा जनसंपर्क और अपने प्रति लोगों का विश्वास व संतुष्टि ही आगामी चुनाव में मायने रखेगी.

गरीबों की सेवा ही मूल ताकत : गायकवाड़

2014 के विधानसभा चुनाव में कड़ी टक्कर देकर दूसरे स्थान पर रहे संजय गायकवाड़ ने बताया कि अलग-अलग पदों पर उनके हर कार्यकाल में वे 24 घंटे जनसेवा के लिए समर्पित रहे हैं और रहेंगे. हजारों परिवार का संसार स्थापित करवाया है तथा हजारों युवकों को रोजगार दिलवाया है. गरीबों के लिये की हुई सेवा व अनगिनत पीड़ितों का मुफ्त में इलाज कर उन्हें राहत दिलवाई है. बुलढाना शहर में पानी की समस्या हो या अंडर ग्राउंड ड्रेनेज की, या रेल्वे की समस्या, जीत के बाद इनका हल निकाल इन्हें साक्षात साकार करने के लिए अपने आपको सक्षम मानते हैं.

समाजकार्य में राजनीति नहीं की : मो. सज्जाद बुलढाना शहर की राजनीति में अपना लोहा मनवा चुके मो. सज्जाद अ. खालिद इस बार बुलढाना विधानसभा सभा निर्वाचन क्षेत्र से संभावित उम्मीदवार के रूप में तैयारी कर रहे हैं. उनका कहना है कि 15 वर्ष के नगरसेवक के कार्यकाल में व अभी अपनी नगराध्यक्ष पत्नी के कार्यकाल में हर समाज का कार्य किया, समाजकार्य करते समय राजनीति को उसमें कतई आने नहीं दिया. नौजवानों के हाथों के लिए काम व जिनके मां- बाप नहीं है उनको सहारा देने का प्रथम लक्ष्य है. बुलढाना में आजतक जो प्रलंबित प्रश्न है उनको हल कर विधानसभा क्षेत्र में विकास की नींव रखने की ओर ही उनकी पहल रहेगी.

BJP संगठन को किया मजबूत : गोड़े

भाजपा की टिकट पर 2014 के विधानसभा चुनाव में अपनी किस्मत आजमा चुके योगेंद्र गोड़े ने 2019 के विधानसभा चुनाव में अपनी जीत पक्की बतलाई है. चुनाव परिणामों के बाद भी क्षेत्र में भाजपा का संगठन बढ़ाने का काम निरंतर लगे रहकर किया. शैक्षणिक योजनाएं तथा शासकीय योजनाओं के माध्यम से लोगों को लाभान्वित करवाया है. जीत के बाद शहर समेत ग्रामीण क्षेत्र के विकास का एजेंडा मुख्य रहेगा.

विकास कार्यों की दी प्राथमिकता : शिंदे

बुलढाणा विधानसभा क्षेत्र में करीब 3 बार विधायक रहे विजयराज शिंदे ने अपनी जीत का दावा किया है. उनका कहना है कि बड़ा जनसंपर्क तथा अपने द्वारा किये गए अनगिनत विकास कामों की वजह से जनता से प्रेम मिलता रहा है. आगामी चुनाव में मौका मिलता है तो क्षेत्र को सिंचाई युक्त कर किसानों की आत्महत्या को रोकना तथा जिले में मेडिकल कालेज के निर्माण के साथ शहर में ओवरब्रिज का काम पूर्ण करने का उद्देश्य रहेगा. क्षेत्र के विकास को प्राथमिकता देकर उन्हें हरसंभव प्रयत्नों से पूरा करना है.

सभी वर्गों का विकास महत्वपूर्ण : राठोड़

विधानसभा चुनाव में खुद को संभावित उम्मीदवार बताते हुए संजय राठौड़ ने कहा कि क्षेत्र की सामान्य जनता, पिछड़ी जाति एवं किसानों का विकास बेहद महत्वपूर्ण है. युवाशक्ति को एकजुट कर राष्ट्रविकास साध्य करना मुख्य लक्ष्य है. हर गांव में अच्छी सेहत के लिए व्यायाम शाला तथा महिलाओं के लिए बचत गुट, किसान गुट के साथ कृषि, शिक्षा, ग्राम विकास कर हर गांव को अपने आप में सक्षम बनाना मुख्य लक्ष्य है.

चुनाव की रणनीति तैयार : शेलके

महिला प्रदेश कांग्रेस कमेटी की महासचिव तथा जिला परिषद सदस्य जयश्री शेलके भी इस बार संभावित उम्मीदवार के रूप में तैयारी कर रही हैं. महिलाओं के अधिकार व सुरक्षा के लिए विशेष रूप से कार्य करने की उनकी मंशा है. ग्रामीण क्षेत्र की पेयजल समस्या को मिटाना, जिलास्तर पर महिलाओं के लिए स्वतंत्र हास्पिटल के निर्माण का प्रयास तथा किसानों को फसलऋण के लिये विशेष कार्य करने की इच्छा है.

क्षेत्र के विकास के लिए करेंगे काम : बुधवंत शिवसेना के जिलाध्यक्ष जालिंधर आश्रूबा बुधवंत भी इस बार अपने आपको चुनावी मैदान में उतारने के इच्छुक हैं. जिले में व विधानसभा क्षेत्र में मतदाताओं से संपर्क की वजह से पार्टी की ओर से टिकट मिलने की संभावना जताई है. शिवसेना कार्यकर्ताओं के लिए ‘शिवसेना भवन’ का निर्माण करना उनका लक्ष्य है. जीत के बाद क्षेत्र के विकास के लिए विधानसभा में आवाज बुलंद करेंगे. विभिन्न पदों के माध्यम से किये गये विकास कामों का अनुभव बेहद उपयोगी साबित होगी.