Anil Ambani told UK court, he lives a disciplined life, away from luxury

मुंबई. एक तरफ अम्बानी परिवार के मुकेश अम्बानी (Mukesh Amnai) एक के बाद एक सफलता के कीर्तिमान रच रहे हैं वहीं उनके भाई अनिल अम्बानी (Anil Ambani) अपने कर्जों के चलते परेशान हैं। यही नहीं कर्ज में डूबे अनिल अंबानी  (Anil Ambani)  ने तीन चीनी बैंकों से लोन मामले में अपनी संपत्ति को लेकर बड़ा खुलासा करते हुए बताया कि उनके पास कोई महत्वपूर्ण संपत्ति नहीं है।  वहीं अब उनका खर्च उनकी पत्नी और परिवारवाले संभालते हैं।  अनिल का यह भी कहना है कि उनकी आय का अब कोई दूसरा जरिया नहीं है और अब वे एक साधारण व्यक्ति हैं। 

दरअसल अनिल अम्बानी और उनकी कंपनी रिलायंस कॉम ने फरवरी 2012 में  तीन चीनी बैंकों से $700 मिलियन से अधिक का ऋण लिया था , जिसकी पर्सनल गारंटी अनिल अंबानी ने ली थी। जहाँ अब उनकी यह कंपनी दिवालिया हो चुकी है तो बैंकों ने ब्याज के साथ रकम वसूलने के लिए उन पर मुकदमा किया है।  इन लोन देने वाले बैंकों में इंडस्ट्रियल एंड कमर्शियल बैंक ऑफ चाइना लिमिटेड (मुंबई ब्रांच), चाइना डेवलपमेंट बैंक और एक्जिम बैंक ऑफ चाइना हैं।  

इस केस में बीते 22 मई 2020 को लंदन  हाई कोर्ट ने फैसला सुनाया था कि अनिल अंबानी  12 जून तक तीन चीनी बैंकों को $7. 17 मिलियन का भुगतान करेंगे , लेकिन जब तय समय पर यह भुगतान ना हुआ  बैंकों ने संपत्ति घोषित करने की मांग की थी।  इसपर  अदालत ने अनिल अंबानी को 29 जून को दुनिया में फैली अपनी संपत्तियों को घोषित करने का आदेश भी पारित  किया था। 

यही नहीं उनसे उनके ऐफिडेविट में यह भी बताने को कहा गया कि उन संपत्तियों में उनकी पूरी हिस्सेदारी भी है या वो इनमे भी  किसी के साथ संयुक्त हकदार हैं।  इसके साथ ही तीन चीनी बैंकों ने यह साफ़ कहा है कि वे जरुरत पड़ी तो अनिल अम्बानी के खिलाफ अपने बाकी सभी कानूनी विकल्पों का इस्तेमाल करेंगे।