MSME को सस्ते लोन देगा सेंट्रल बैंक

7.50% सालाना ब्याज दर  

होम लोन भी मात्र 6.85%  पर

मुंबई. कोविड-19 महामारी ने पूरी दुनिया में आर्थिक गतिविधियों में गंभीर खलल पैदा किया है. भारत सरकार और आरबीआईI ने इस वैश्विक महामारी के प्रभाव को कम करने के लिए कई पहल की हैं. सरकार की इस पहल में भागीदारी करते हुए सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया ने एमएसएमई और कारोबारियों के लिए अपने व्यवसाय को फिर से शुरू करने के लिए एक गारंटीड इमरजेंसी क्रेडिट लाइन की शुरुआत की है. जिसके तहत वर्किंग कैपिटल एवं टर्म लोन की सुविधा दी जा रही है. ऐसे ग्राहक अब अपने संयुक्त कोष के 20% तक अतिरिक्त कार्यशील पूंजी सावधि ऋण ले सकते हैं.

तरलता संकट को दूर करने में उपयोगी 

एमएसएमई के लिए कोविड-19 महामारी से उत्पन्न तरलता संकट को दूर करने में ये ऋण उपयोगी होंगे. राशि का उपयोग कार्यशील पूंजी के उद्देश्यों के लिए किया जा सकता है जैसे इनपुट्स की खरीद, मजदूरी का भुगतान, वेतन, अन्य परिचालन व्यय और सांविधिक बकाया आदि. ये ऋण रेपो रेट लिंक्ड ब्याज दर पर दिए जाएंगे यानी सिर्फ 7.50% सालाना दर पर. साथ ही बैंक ने प्रोसेसिंग शुल्क पूरी तरह से माफ कर दिया है.

ऐसे अतिरिक्त कार्यशील पूंजी अवधि ऋण के लिए 100% गारंटी कवरेज प्रदान करने के लिए आपातकालीन क्रेडिट लाइन गारंटी योजना के तहत ऋण को कवर करने के लिए ग्राहक से कोई दंडात्मक ब्याज और कोई गारंटी शुल्क नहीं लिया जाएगा. यह सुविधा पूर्व-अनुमोदित ऋण के रूप में प्रदान की जाती है ताकि अनुमोदन को शीघ्र पूरा किया जा सके. इसके अलावा आरबीआई द्वारा रेपो दर में कमी के बाद सेंट्रल बैंक ने बाहरी बेंचमार्क लिंक्ड खातों के लिए ब्याज दर में 0.40% की कमी की है. इससे सेंट्रल बैंक के नए होम लोन पर ब्याज दर सबसे कम 6.85% रह गई है.