घटती ब्याज दरें, अन्य विकल्पों की तलाश में निवेशक

  • बांड फंडों में बैंक FD से अधिक रिटर्न

मुंबई. घटती ब्याज दरों के दौर में बैंकों की जमा ब्याज दरें 4 से 6% के न्यूनतम स्तर पर आ गई हैं. जिससे बैंकों की सावधि जमा (एफडी) में रिटर्न भी बहुत कम मिल रहा है. इस कारण निवेशक दूसरे सुरक्षित निवेश विकल्पों की तलाश में हैं. ऐसे निवेशकों के लिए म्युचुअल फंडों के मीडियम टर्म बांड फंड यानी डेब्ट फंड एक बेहतर विकल्प हो सकते हैं. जिनमें निवेशकों को सुरक्षित रूप से 8% से लेकर 11% तक का अच्छा रिटर्न मिल रहा है. हालांकि इनमें निवेशकों को बेहतर रिटर्न के लिए अच्छे ट्रेक रिकार्ड वाले फंडों की स्कीमों का ही चयन करना चाहिए.

आई प्रू के बांड फंड में 11.51% रिटर्न

अच्छा रिटर्न देने वाले म्युचुअल फंडों के मीडियम टर्म बांड फंडों में आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल म्युचुअल फंड का मीडियम टर्म बांड फंड सर्वाधिक रिटर्न दे रहा है. इसने एक साल की अवधि में तो 11.51% रिटर्न दिया है. जबकि पांच साल में इसका रिटर्न 8.86% रहा है. इसका कुल कोष यानी एयूएम 5,068 करोड़ रुपए है. जबकि आईडीएफसी बांड फंड मीडियम टर्म ने एक साल में 10.37% का रिटर्न दिया है और पांच साल में इसका रिटर्न 8.71% रहा है. इसका एयूएम करीब 3461 करोड़ रुपए है. इसी तरह एचडीएफसी मीडियम टर्म बांड फंड का रिटर्न एक साल में 9.97% और पांच साल में 8.65% रहा है. हालांकि इसका एयूएम सिर्फ करीब 1115 करोड़ रुपए है. कोटक महिंद्रा मीडियम टर्म बांड ने एक साल में 8.74% और विगत 5 ‍‍‍वर्षों में 8.45% का रिटर्न दिया है. इसका एयूएम 1480 करोड़ रुपए है. 

मीडियम टर्म बांड फंड अच्छा विकल्प

विश्लेषकों के मुताबिक, यदि कोई निवेशक 3 से 5 साल की अवधि के लिए निवेश करना चाहता है तो उसके लिए मीडियम टर्म बांड फंड अच्छा विकल्प हो सकता है. ये बांड फंड सुरक्षित निवेश की दृष्टि से बांड और मनी मार्केट में निवेश करते हैं. इनके निवेश का मैच्योरिटी समय 3-4 साल का होता है. इस कैटेगरी में प्रदर्शन के आधार पर देखें तो आई प्रू मीडियम टर्म बांड फंड शीर्ष पर है. साथ ही इस कैटेगरी में इसका एयूएम भी अन्य की तुलना में ज्यादा है. इस फंड का पिछले 15 ‍वर्षों का अच्छा ट्रैक रिकॉर्ड भी है.