GDP growth slows to 3.1 percent in fourth quarter of last fiscal

मुंबई. घरेलू रेटिंग एजेंसी ब्रिकवर्क (Brickwork) की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि आर्थिक गतिविधियों (Economic Activities)में सुधार और निम्न तुलनात्मक आधार के प्रभाव के साथ अगले वित्त वर्ष में देश के वास्तविक सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) (GDP) की वृद्धि 11 प्रतिशत तक जा सकती है। ब्रिकवर्क रेटिंग्स की रिपोर्ट में कहा गया है कि प्रतिबंधों में छूट के बाद आर्थिक गतिविधियां धीरे धीरे कोविड- 19 से पहले की स्थिति में पहुंच रहीं हैं। केवल वही क्षेत्र अभी पीछे हैं जहां शारीरिक पास्परिक दूरी के नियमों के चलते कामकाज पूरी गति नहीं पकड़ पाया है।

एजेंसी ने अपनी रिपोर्ट में कहा है, “कोविड-19 (COVID-19) से बचाव के लिये प्रभावी टीका विकसित करने में हुई प्रगति और घरेलू अर्थव्यवस्था में उम्मीद से बेहतर सुधार के संकेत मिलने के साथ ही निम्न तुलनात्मक आधार को देखते हुये हमारा मानना है कि वित्त वर्ष 2021-22 में वास्तविक जीडीपी (स्थिर मूल्य के आधार पर) 11 प्रतिशत बढ़ सकती है। यह वृद्धि चालू वित्त वर्ष के दौरान 7 से 7.5 प्रतिशत की अनुमानित गिरावट की तुलना में होगी।”

राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (एनएसओ) द्वारा चालू वित्त वर्ष (2020- 21) के लिये जारी जीडीपी वृद्धि के पहले अग्रिम अनुमान के मुताबिक देश के सकल घरेलू उत्पाद में 7.7 प्रतिशत की रिकार्ड गिरावट आयेगी। रेटिंग एजेंसी की रिपोर्ट में कहा गया है कि चालू वित्त वर्ष की दूसरी दमाही में अर्थव्यवस्था में सकारात्मक स्थिति के साथ वृद्धि दर्ज की जायेगी। हालांकि कुछ क्षेत्र जहां शारीरिक दूरी के नियमों के कारण गतिविधियां धीमी हैं वहां सुधार की गति धीमी बनी हुई है।

रिपोर्ट के मुताबिक, इन तमाम बातों के बावजूद टीका विकसित होने के बाद अगले वित्त वर्ष के लिये परिदृश्य में सुधार आया है। इसमें कहा गया है कि कृषि क्षेत्र में अगले वित्त वर्ष में भी 3.5 प्रतिशत की वृद्धि बरकरार रहेगी। हालांकि उसने कहा है कि यह अनुमान सामान्य मानसून और कृषि सुधारों के प्रभावी क्रियान्वयन पर आधारित हैं। एजेंसी के मुताबिक 2021- 22 में औद्योगिक क्षेत्र में 11.5 प्रतिशत और सेवा खेत्र में 11 से 12 प्रतिशत तक वृद्धि हासिल हो सकती है। (एजेंसी)