Excellent Returns By Aditya Birla Group

  • मार्केट कैप पहुंचा 4.50 ट्रिलियन रुपए

मुंबई. देश के सबसे प्रतिष्ठित औद्योगिक घरानों का नाम लिया जाए तो टाटा (Tata) के बाद बिरला (Birla) का ही नाम आता है। जिसने आजादी के पहले भी और आजादी के बाद भी राष्ट्र के निर्माण में महत्वपूर्ण योगदान दिया। बिरला परिवार ने स्वतंत्रता की लड़ाई (Independence Movement) को सफल बनाने में महात्मा गांधी को विशेष सहयोग दिया। आजादी के पूर्व जब बिरला औद्योगिक समूह की नींव विख्यात उद्योगपति और समाजसेवी घनश्यामदास बिरला (GD Birla) ने रखी थी तो उन्होंने औद्योगिक विकास (Industrial Development) के साथ समाज विकास (Social Welfare) को भी प्रमुखता दी।

उनके आदर्शों और सिद्धांतों को उनके पौत्र आदित्य बिरला (Aditya Birla) ने भी अपनाया और एक के बाद एक नए उद्योग लगाते हुए दुनिया भर में बिरला समूह का परचम लहराया। आदित्य बिरला के बाद अब उनके पुत्र कुमार मंगलम बिरला (Kumar Manglam Birla) अपनी दूरदर्शिता और प्रभावी नेतृत्व के बल पर न केवल ग्रुप को नई ऊंचाइयों पर पहुंचा रहे हैं बल्कि बिरला परिवार की नीति के अनुरूप समाजसेवा (Social Work) यानी सीएसआर दायित्वों को निभाने में भी आगे हैं। साथ ही देश की प्रगति (Nation’s Development) में निरंतर महत्वपूर्ण योगदान देते हुए अपने करीब 30 लाख से अधिक निवेशकों (Investors) को शानदार रिटर्न (Excellent Returns) भी प्रदान कर रहे हैं।

सेंसेक्स और निफ्टी से अधिक रिटर्न

आदित्य बिरला ग्रुप (Aditya Birla Group) के स्टॉक्स, बाजार के साथ परफॉर्म करते हैं और हमेशा सेंसेक्स (Sensex) और निफ्टी (Nifty) से अधिक रिटर्न प्रदान करते हैं। विगत 12 महीनों में जहां सेंसेक्स और निफ्टी में 53% की तेजी आई है। वहीं ग्रुप की 5 कंपनियों के शेयरों (Shares) ने निवेशकों को 53% से लेकर 146% तक का बढ़िया रिटर्न दिया है। विवादों से हमेशा दूर रहते हुए सस्टेनबल डेवलपमेंट की नीति पर चलने वाले कुमार मंगलम बिरला ने कोरोना महामारी के घोर संकट में भी ग्रुप को और मजबूती प्रदान करने में सफलता पाई है। वे कारोबार और लाभ बढ़ाने के साथ कंपनियों के ऋण (Debt) में लगातार कटौती कर वित्तीय स्थिति सुदृढ़ करने में सफल हो रहे हैं।

हिंडाल्को और ग्रासिम में सबसे अधिक कमाई

आदित्य बिरला ग्रुप की 6 लिस्टेड कंपनियां हैं, जिनमें विगत 12 महीनों के दौरान एक को छोड़ सभी में निवेशकों को काफी अच्छा रिटर्न हासिल हुआ है। सबसे अधिक रिटर्न हिंडाल्को (Hindalco) और ग्रासिम (Grasim) ने दिया है। दोनों कंपनियों के शेयरों में समान रूप से 146% का रिटर्न दिया है। अमेरिका की बड़ी एल्युमिनियम कंपनियों नोवालिस (Novelis Aluminum) और एलेरिस इंटरनेशनल (Aleris International) के अधिग्रहण के बाद अब हिंडाल्को इंडस्ट्रीज दुनिया की सबसे बड़ी एल्युमिनियम रोलिंग कंपनी बन गयी है। वित्त वर्ष 2020-21 में 1332 अरब रुपए के कारोबार पर 52 अरब रुपए का शुद्ध लाभ कमाने वाली हिंडाल्को तांबे की भी बड़ी उत्पादक है और आज इसका मार्केट कैप 84,000 करोड़ रुपए तक पहुंच गया है। हिंडाल्को अगले 5 साल में अपनी उत्पादन क्षमता दोगुनी करने की योजना बना रही है। आदित्य बिरला ग्रुप अपने कारोबारी क्षेत्रों में लगातार विस्तार कर अपनी ग्रोथ निरंतर तेज कर रहा है।

98,000 करोड़ हुआ ग्रासिम का मार्केट कैप

ग्रासिम इंडस्ट्रीज ग्रुप की शीर्ष कंपनी है और आज इसका मार्केट कैप 98,000 करोड़ रुपए तक पहुंच गया है। वित्त वर्ष 2020-21 में 1332 अरब रुपए के कारोबार पर 52 अरब रुपए का शुद्ध लाभ कमाने वाली ग्रासिम दुनिया में विस्कोस स्टेपल फाइबर की प्रमुख निर्माता है। यह कास्टिक सोडा बनाने वाली भारत की सबसे बड़ी कंपनी है। अल्ट्राटेक सीमेंट और आदित्य बिरला कैपिटल इसकी सब्सिडरी कंपनियां है। ग्रासिम अब डेकोरेटिव पेंट कारोबार में भी उतर रही है। इसके लिए अगले तीन वर्षों में ग्रासिम 5,000 करोड़ रुपए का निवेश करेगी।

अल्ट्राटेक का मार्केट कैप सर्वाधिक

454 अरब के कारोबार और 53 अरब रुपए मुनाफे के साथ अल्ट्राटेक सीमेंट (Ultratech Cement) आज दुनिया की एक अग्रणी सीमेंट कंपनी बन गयी है। यह ग्रे सीमेंट, रेडी मिक्स कांक्रीट और व्हाइट सीमेंट बनाने वाली भारत की सबसे बड़ी कंपनी है। विगत 12 महीनों में इसके शेयर ने निवेशकों को 74% का रिटर्न दिया है। मार्केट कैप के मामले में ग्रुप की यह सबसे बड़ी कंपनी है। इसका मार्केट कैप 1।93 ट्रिलियन रुपए की ऊंचाई पर पहुंच गया है। देश में इंफ्रा और रियल्टी परियोजनाओं के लिए सीमेंट की बढ़ती मांग का इसे काफी फायदा मिल रहा है। बढ़ती मांग को देख अल्ट्राटेक ने अपनी उत्पादन क्षमता 20 मिलियन टन बढ़ाकर 135 मिलियन टन करने का निर्णय लिया है।

आदित्य बिरला फैशन इस साल फायदे में आने की उम्मीद

ग्रुप की फाइनेंशियल सर्विसेज कंपनी आदित्य बिरला कैपिटल (Aditya Birla Capital) और ब्रांडेड अपैरल रिटेल कंपनी आदित्य बिरला फैशन (Aditya Birla Fashion) ने 114% और 53% का रिटर्न 12 महीनों में दिया है। आदित्य बिरला कैपिटल देश का चौथा सबसे बड़ा म्युचुअल फंड संचालित कर रही है। साथ ही इसकी इंश्योरेंस और फाइनेंस डिवीजन भी लगातार ग्रोथ दर्ज कर रही हैं। वित्त वर्ष 2020-21 में आदित्य बिरला कैपिटल ने 11 अरब रुपए का शुद्ध लाभ कमाया। जबकि ब्रांडेड अपैरल रिटेल कंपनी आदित्य बिरला फैशन को बीते साल कोरोना संकट और लंबे लॉकडाउन के कारण 5250 करोड़ रुपए के कारोबार पर 735 करोड़ रुपए का घाटा उठाना पड़ा, लेकिन इस साल इसके फिर फायदे में आने की उम्मीद है।

घाटे से उबरने की कोशिश में वोडाफोन आयडिया

ग्रुप की टेलिकॉम कंपनी वोडाफोन आयडिया (Vodafone Idea) को देश के टेलिकॉम सेक्टर में पहले हुए घोटालों और फिर हुई गलाकाट प्रतिस्पर्धा का शिकार होना पड़ा है। इसी कारण कंपनी को लगातार भारी घाटा उठाना पड़ा है। इसके बावजूद आदित्य बिरला ग्रुप अपने ब्रिटिश पार्टनर वोडाफोन के सहयोग से गलाकाट प्रतिस्पर्धा का मुकाबला करने की पूरी कोशिश कर रहा है और अब इसे कुछ सफलता भी मिलने की उम्मीद दिख रही है। भारी घाटे में रहने की वजह से इसके शेयर में निवेशकों को कोई रिटर्न नहीं मिल पाया है। हालांकि अब आगामी वर्षों में इसका घाटा कम होने और रिटर्न मिलने की उम्मीद दिखाई दे रही है।