Petrol cost 59 paisa per liter and diesel 58 paisa per liter

नई दिल्ली: देश की आम जनता पर आने वाले दिनों पर महंगाई की बड़ी मार होने वाली हैं. केंद्र सरकार भविष्य में पेट्रोल और डीजल के दामों में भारी बढ़ोतरी कर सकती हैं. दरअसल केंद्र सरकार ने सोमवार को लोकसभा पेश किए वित्त विधेयक को पास कर तेल के कीमतों पर बढ़ोतरी करने का अधिकार प्राप्त कर लिया हैं. 

वित्त विधेयक में संशोधन कर पाया अधिकार 
केन्द्र सरकार ने लोकसभा में 2020 का वित्त विधेयक पेश किया था. जिसमे इंधन के मूल्यों के बढ़ोतरी का संशोधन भी मौजूद था. कोरोना वायरस के चलते लोकसभा में बिना चर्चा के ही विधेयक को पास कर दिया गया. जिसके कारण सरकार को बढ़ोतरी का अधिकार प्राप्त होगया. सरकार ने इसके लिए वित्त विधेयक के आठवी अनुसूची में किए संसोधन किए थे. 

डीजल और पेट्रोल आठ रुपए बढ़ सकते हैं
लोकसभा ने वित्त विधेयक को पास कर दिया हैं. जिसके वजह से सरकार डीजल और पेट्रोल पर आठ रुपए बढ़ सकती हैं. मौजूदा समय में डीजल के ऊपर उत्पादन शुल्क 4 रुपए और पेट्रोल पर 10 रुपए था.  लेकिन इस प्रस्ताव के बाद डीजल पर 12 रुपए और पेट्रोल पर 18 रुपए होजाएगे.

14 मार्च को हुई थी वृद्धी 
सरकार ने 14 मार्च को डीजल और पेट्रोल पर तीन रुपए की बढ़ोतरी की थी. जिसके अनुसार विशेष अतिरिक्त उत्पाद शुल्क मद में दो रुपये और सड़क एवं अवसंरचना उपकर की मद में एक रुपये प्रति लीटर शुल्क बढ़ाया गया. इस बढ़ोतरी से सरकार को 39,000 करोड़ रुपए का राजस्वा प्राप्त होगा. 

वैश्विक बाजार में गिरती कीमतों को देखते हुए लिया निर्णय
दुनिया के बड़े तेल उत्पादन वाले देश सऊदी अरब ने पिछले दिनों कच्चे तेल की कीमत में बड़ी कटौती की हैं, जिसके वजह से पूरी दुनिया में तेल की कीमत बढ़ी तेजी से उतरी हैं. जिसको देखते हुए सरकार ने यह निर्णय लिया हैं.