adani

  • सबसे बड़े वेल्थ क्रिएटर बने गौतम अडानी
  • 16.20 अरब डॉलर बढ़ी नेटवर्थ

मुंबई. शेयर बाजार में आ रही तेजी के संग कदम ताल मिलाते हुए उद्योगपति गौतम अडानी (Gautam Adani) के नेतृत्व वाला अडानी ग्रुप (Adani Group) अपने निवेशकों को मालामाल कर रहा है। भले ही अडानी पर करीब 19 अरब डॉलर का भारी कर्ज (Debt) है, लेकिन अपनी नेटवर्थ में 16.20 अरब डॉलर की शानदार ग्रोथ दर्ज कर गौतम अडानी 2021 में दुनिया के सबसे बड़े वेल्थ क्रिएटर (Wealth Creator) बन गए हैं। 

उन्होंने वेल्थ क्रिएशन के मामले में अमेरिकी कंपनियों गूगल (Google) के सह संस्थापक लैरी पेज (Larry Page), टेस्ला मोटर्स (Tesla) के सीईओ एलन मस्क (Elon Musk), अमेजन (Amazon ) के संस्थापक जेफ बेजोस (Jeff Bezos) और भारत के शीर्ष उद्योगपति रिलांयस (Reliance Industries) के मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) को भी पीछे छोड़ दिया है। अब गौतम अडानी दुनिया के 26वें सबसे बड़े अमीर बन गए हैं।

8.05 अरब डॉलर बढ़ी मुकेश अंबानी की नेटवर्थ

ब्लूमबर्ग बिलिनियर इंडेक्स (Bloomberg Billionaires Index) के मुताबिक, अडानी की नेटवर्थ अब 50 अरब डॉलर हो गयी है। इस साल अब तक अडानी के बाद लैरी पेज ने अपनी नेटवर्थ में 14.3 अरब डॉलर का इजाफा किया है, जबकि एलन मस्क ने 10.3 अरब डॉलर और मुकेश अंबानी ने 8.05 अरब डॉलर की बढ़ोत्तरी की है। अंबानी की नेटवर्थ बढ़कर 84.80 अरब डॉलर हो गयी है और वे दुनिया के 10वें बड़े अरबपति बन गए हैं। जबकि 183 अरब डॉलर की नेटवर्थ के साथ अमेजन के जेफ बेजोस सबसे ज्यादा धनी और 180 अरब डॉलर के साथ टेस्ला के एलन मस्क दूसरे स्थान पर हैं।

सबसे ज्यादा कमाई अडानी टोटल गैस के शेयरों में हुई

इस साल अडानी ग्रुप की कंपनियों में एक को छोड़ अन्य सभी के शेयरों में 50% से अधिक की जोरदार तेजी आई है। सबसे ज्यादा 97% की तेजी अडानी टोटल गैस लि. (Adani Total Gas) के शेयर में आई है, जो 38 शहरों में विस्तार के साथ भारत की सबसे बड़ी निजी सिटी गैस वितरण कंपनी बन गयी है। इसमें फ्रांस के टोटल ग्रुप की 37.5% (अडानी की भी 37.5%) इक्विटी हिस्सेदारी है। इसका शेयर 375 रुपए से बढ़कर अब 738 रुपए की नई ऊंचाई पर पहुंच गया है। अडानी ग्रुप की शीर्ष कंपनी अडानी इंटरप्राइजेस लि. (Adani Enterprises) का शेयर 87% से बढ़कर 897 रुपए की ऊंचाई पर पहुंच गया है, जो कोल माइनिंग, एग्री, ट्रेडिंग, एयरपोर्ट डेवलपमेंट, डाटा सेंटर, इंफ्रा विकास सहित विभिन्न क्षेत्रों में कार्यरत है।     

अडानी ग्रीन सबसे बड़ी सोलर पावर कंपनी

ग्रुप की तीसरी बड़ी कंपनी अडानी पोर्ट एंड एसईजेड लि. (Adani Port & SEZ) जो भारत की सबसे बड़ी पोर्ट इंफ्रा कंपनी बन गयी है, का शेयर इस साल अब तक 51% बढ़कर 727 रुपए हो चुका है। ग्रुप की बिजली वितरण कंपनी अडानी ट्रांसमिशन लि. (Adani Transmission) का शेयर 60% बढ़कर 774 रुपए की ऊंचाई पर पहुंच गया है। पांचवी कंपनी अडानी पावर लि. (Adani Power) जो बिजली उत्पादक है, का शेयर 50% बढ़कर 75 रुपए हो गया है। यह ग्रुप की एकमात्र कंपनी है, जो लगातार घाटे में है। ग्रुप की छठी कंपनी अडानी ग्रीन एनर्जी लि. (Adani Green Energy) का शेयर सबसे कम 10% ही बढ़कर 1160 रुपए हुआ है। अडानी ग्रीन ‍दुनिया की सबसे बड़ी सोलर पावर (Solar Power) कंपनी बन गयी है।

758% तक की बंपर कमाई

वैसे पिछले 12 महीनों के आंकड़े देखे जाए तो अडानी ग्रुप की सभी 6 कंपनियों ने निवेशकों को 168% से लेकर 758% का बंपर रिटर्न दिया है। निवेशकों को सबसे ज्यादा कमाई अडानी टोटल गैस, अडानी ग्रीन, अडानी इंटरप्राइज और अडानी ट्रांसमिशन में हुई है। इनके शेयरों में 309% से लेकर 758% तक का फायदा हुआ है, जबकि अन्य दो कंपनियों अडानी पोर्ट ने 189% और अडानी पावर ने 168% का फायदा दिया है।

निवेशकों का भरोसा जीतने में कामयाब

बाजार के विश्लेषकों का कहना है कि गौतम अडानी ने अपने कारोबार की शुरूआत ट्रेडिंग (Trading) से की, लेकिन आज विविध उद्योग क्षेत्रों में मैन्युफैक्चरिंग (Manufacturing) कर लगातार विस्तार कर रहे हैं। उन पर विपक्ष लगातार आक्रामक रहा है और मोदी सरकार से ‘विशेष फायदा’ मिलने का भी आरोप लगाया जाता है, लेकिन वे अपने निवेशकों (Investors) को अच्छी कमाई कर उनका भरोसा जीतने में तो कामयाब हो रहे हैं। साथ ही दुनिया की बड़ी कंपनियों से साझेदारी करने के साथ उनसे निवेश प्राप्त कर अपनी वित्तीय स्थिति भी मजबूत कर रहे हैं।

भारी कर्ज चिंता का विषय

ब्लूमबर्ग की सूची में शामिल अन्य दुनिया के अन्य बड़े उद्योगपतियों पर तो कोई खास कर्ज बोझ नहीं है, लेकिन अडानी की 6 कंपनियों पर करीब 1.41 लाख करोड़ रुपए यानी करीब 19 अरब डॉलर का कुल कर्ज भार है, जो निवेशकों के लिए चिंता का विषय भी है। गौतम अडानी आगामी दिनों में यह कर्ज भार कितना घटा पाते हैं, उसी पर निवेशकों की निगाहें रहेंगी। अडानी पावर पर सबसे ज्यादा करीब 51,000 करोड़ रुपए का कर्ज है। जबकि अडानी पोर्ट पर 35,000 करोड़ रुपए और अडानी ट्रांसमिशन पर 25,000 करोड़ रुपए का कर्ज है। सबसे कम अडानी टोटल गैस पर मात्र 407 करोड़ रुपए का ही कर्ज है।