Gokul Milk Price

    मुंबई. महाराष्ट्र (Maharashtra) में सबसे अधिक बिकने वाले दूध ब्रांड ‘गोकुल’ (Gokul) का मालिकाना हक रखने वाले कोल्हापुर जिला सहकारी दुग्ध उत्पादक संघ ने शनिवार को दूध की खरीद कीमत और कुछ क्षेत्रों में बिक्री मूल्य में वृद्धि की घोषणा की। मूल्य में यह बढ़ोतरी रविवार से प्रभावी होगी। महाराष्ट्र के गृह राज्य मंत्री और कोल्हापुर जिले के प्रभारी मंत्री सतेज पाटिल ने यह घोषणा की।

    पाटिल ने कहा, ‘‘कोल्हापुर जिला सहकारी दुग्ध उत्पादक संघ के चुनाव के दौरान हमने जो वादा किया गया था, उसके अनुरूप भैंस के दूध के लिए खरीद मूल्य में दो रुपये और गाय के दूध के लिए एक रुपये की वृद्धि करने का फैसला किया है। हम राज्य में हर दिन 12 लाख लीटर दूध इकट्ठा करते हैं, इसलिए इस फैसले से किसानों को फायदा होगा। कोल्हापुर, सांगली और कोंकण संभाग को छोड़कर, दूध के बिक्री मूल्य में भी वृद्धि होगी।”

    कांग्रेस नेता पाटिल और ग्रामीण विकास मंत्री तथा राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) नेता हसन मुश्रीफ सहकारी संस्था का संचालन करने वाले बोर्ड के सदस्य हैं। ‘गोकुल’ दूध के दैनिक संग्रह को मौजूदा आठ लाख लीटर से बढ़ाकर 20 लाख लीटर करने का भी लक्ष्य बना रहा है। पाटिल ने कहा कि इस लक्ष्य को हासिल करने के लिए हर साल संग्रह में दो लाख लीटर की वृद्धि की जाएगी।

    पाटिल ने कहा कि चुनाव के बाद बने नए बोर्ड द्वारा लिए गए फैसलों में राज्य की दूध विपणन एजेंसी महानंद के साथ मुंबई में बिक्री के लिए एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर करना भी शामिल है। इससे पैकिंग खर्च कम होगा और हर साल 18.80 लाख रुपये की बचत होगी। कुल मिलाकर, विभिन्न खर्चों में कटौती के साथ सालाना 13 करोड़ रुपये की बचत होगी।

    पाटिल ने कहा कि ‘गोकुल’ ने स्थानीय स्तर पर जरूरत को पूरा के लिए एक ऊर्जा संयंत्र भी स्थापित किया है, जो 25 जुलाई से कोरोनो वायरस रोगियों के इलाज के लिए आवश्यक चिकित्सकीय ऑक्सीजन का उत्पादन शुरू करेगा। उन्होंने कहा कि किसानों को अधिक दूध देने वाली मुरहा, जाफराबादी और पंढरपुरी नस्लों की भैंसों की खरीद के लिए 1,000 करोड़ रुपये तक की वित्तीय सहायता दी जा रही है। (एजेंसी)