NEFT Transfer: अब 24 घंटे और साल के 365 दिन मिलेगी NEFT ट्रांसफर की सुविधा

नई दिल्ली: अब पैसे ट्रांसफर करने के लिए आपको समय के साथ नहीं चलना होगा। आप जिस समय या जिस दिन चाहे पैसे ट्रांसफर कर सकते हैं। भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने नेशनल इलेक्ट्रॉनिक फंड्स ट्रांसफर (NEFT) की

नई दिल्ली: अब पैसे ट्रांसफर करने के लिए आपको समय के साथ नहीं चलना होगा। आप जिस समय या जिस दिन चाहे पैसे ट्रांसफर कर सकते हैं। भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने नेशनल इलेक्ट्रॉनिक फंड्स ट्रांसफर (NEFT) की सुविधा 24 घंटे और 365 दिन उपलब्ध कर दी है। अब तक आप केवल सुबह 8 बजे से शाम 6:30 बजे के बीच और जब बैंक खुले हो तभी, पैसे ट्रांसफर कर सकते थे लेकिन अब आपको इनका इंतजार करने की कोई जरुरत नहीं हैं। 

NEFT का समय:
NEFT ट्रांसफर अब आधे घंटे के बैचों में विभाजित किया गया है। जिसमें पहला बैच 12:30 बजे (आधी रात के बाद) से शुरू और आखिरी बैच आधी रात को समाप्त होगा। यह NEFT टाइमिंग चक्र चौबीसों घंटे काम करेगा। चूंकि अंतिम NEFT भुगतान बैच आधी रात को समाप्त होता है, तो आप 11:30 बजे के बाद पेमेंट नहीं कर पाएंगे। 12:30 बजे से आप फिर पेमेंट कर सकते हैं। 
 
RBI ने NEFT मनी ट्रांसफर सुविधा को न केवल 24 घंटे, बल्कि वर्ष के सभी दिनों यानी छुट्टियों के दिन भी उपलब्ध कराने का निर्णय लिया है। अब तक, NEFT सुविधा बैंकिंग छुट्टियों पर उपलब्ध नहीं थी और लोगों को ऑनलाइन मनी ट्रांसफर के लिए भी बैंक शाखाओं के खुलने का इंतजार करना पड़ता था। अब तक NEFT लेन देन सुबह 8 से शाम 7 बजे के बीच ही हो पाता था। वही पहले और तीसरे शनिवार को सुबह 8 से दोपहर 1 बजे तक ही होता था। RBI का यह कदम भारत में डिजिटल लेनदेन को बढ़ावा देगा। अब तक, IMPS सुविधा ने ऑनलाइन 24×7 फंड ट्रांसफर की अनुमति दी थी, लेकिन इसकी सीमा 2 लाख थी।
 
बैंकिंग घंटों के बाद किए गए एनईएफटी लेनदेन को बैंकों द्वारा सीधे प्रसंस्करण (एसटीपी) मोड के माध्यम से स्वचालित किया जाएगा। आरबीआई ने कहा कि लाभार्थी के खाते में जमा करने या लेनदेन (संबंधित बैच के निपटान के 2 घंटे के भीतर) वापस करने का मौजूदा नियम जारी रहेगा। बैंकों को सभी एनईएफटी क्रेडिट के लिए पुष्टि संदेश भेजने वाले हैं। RBI ने बैंकों से कहा है कि वे अपने ग्राहकों को निर्बाध NEFT 24×7 सुविधा प्रदान करने के लिए सभी आवश्यक अवसंरचनात्मक आवश्यकताओं की उपलब्धता सुनिश्चित करेंगे।

NEFT शुल्क: 
भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई), आईसीआईसीआई बैंक और एचडीएफसी बैंक जैसे अधिकांश बैंक ऑनलाइन NEFT ट्रांसफर के लिए कुछ भी शुल्क नहीं लेते हैं। जुलाई में RBI ने NEFT और RTGS के माध्यम से फंड ट्रांसफर पर सभी शुल्कों को माफ कर दिया था और बैंकों से ग्राहकों को लाभ देने के लिए कहा था। जनवरी 2020 से बचत बैंक खाता इस्तेमाल कर रहे ग्राहकों के लिए RBI ने सभी ऑनलाइन NEFT लेनदेन को मुफ्त करने के आदेश दिए थे। 
 
NEFT सीमाएं:
NEFT ट्रांसफर के लिए कोई न्यूनतम सीमा नहीं है, लेकिन आम तौर पर इसका इस्तेमाल 2 लाख तक के फंड ट्रांसफर के लिए किया जाता है। ज्यादा पैसों के लेनदेन के लिए, RTGS का उपयोग किया जाता है। NEFT की अधिकतम सीमाएं बैंक से बैंक तक भिन्न होती हैं और ग्राहक श्रेणी पर भी निर्भर करती हैं। उदाहरण के लिए, ICICI बैंक ग्राहकों को NEFT द्वारा 10 लाख तक भुगतान करने की अनुमति देता है लेकिन दूसरों के लिए यह NEFT लेनदेन 25 लाख तक की अनुमति देता है। HDFC बैंक ने भी ऑनलाइन NEFT लेनदेन के लिए 25 लाख की सीमा तय की है।