The Sensex gained over 150 points in early trade, the Nifty crossed 11,150

    मुंबई: शेयर बाजारों में सोमवार को बड़ी गिरावट आयी और बीएसई सेंसेक्स 587 अंक लुढ़क गया। वैश्विक स्तर पर कमजोर रुख के बीच एचडीएफसी बैंक, एचडीएफसी, रिलायंस इंडस्ट्रीज और एक्सिस बैंक में गिरावट के साथ बाजार में नरमी आयी। तीस शेयरों पर आधारित बीएसई सेंसेक्स 586.66 अंक यानी 1.10 प्रतिशत की गिरावट के साथ 52,553.40 अंक पर बंद हुआ।   

    नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 171 अंक यानी 1.07 प्रतिशत का गोता लगाकर 15,752.40 अंक पर बंद हुआ। सेंसेक्स में शामिल शेयरों में तीन प्रतिशत से अधिक की गिरावट के साथ सर्वाधिक नुकसान में एचडीएफसी बैंक का शेयर रहा। इसके अलावा इंडसइंड बैंक, एक्सिस बैंक, एचडीएफसी, मारुति और बजाज फाइनेंस में प्रमुख रूप से गिरावट रही। 

    दूसरी तरफ, एनटीपीसी, नेस्ले इंडिया, डा. रेड्डीज और सन फार्मा समेत अन्य शेयर लाभ में रहे। रिलायंस सिक्योरिटीज के रणनीति प्रमुख विनोद मोदी के अनुसार वैश्विक स्तर पर कमजोर रुख से घरेलू शेयर बाजारों में बड़ी गिरावट आयी। अमेरिका समेत दुनिया के विभिन्न देशों में कोविड-19 संक्रमण के नये मामले बढ़ने के साथ धारणा पर नकारात्मक प्रभाव पड़ा।   

    उन्होंने कहा, ‘‘वित्तीय शेयरों में गिरावट रही। इसका प्रमुख कारण एचडीएफसी बैंक का 2021-22 की पहली तिमाही का प्रदर्शन उम्मीद के अनुसार नहीं रहना है। संपत्ति की गुणवत्ता में गिरावट से निवेशकों में बैंक और एनबीएफसी (गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों) को लेकर चिंता बढ़ी है, जो खुदरा और एसएमई (लघु एवं मझोले उद्यमों) को कर्ज दे रखे हैं। मोदी ने कहा, ‘‘वाहन और धातु सूचकांकों में एक प्रतिशत से अधिक का सुधार आया। रियल्टी और दवा कंपनियों को छोड़कर ज्यादातर प्रमुख खंडवार सूचकांकों में गिरावट रही। मझोली और छोटी कंपनियों के शेयरों में भी मुनाफावसूली देखी गयी…।”  

    वैश्विक स्तर पर शंघाई, हांगकांग, सियोल और तोक्यो भारी गिरावट के साथ बंद हुए। यूरोप के प्रमुख शेयर बाजारों में भी मध्याह्न कारोबार में गिरावट का रुख रहा। इस बीच, अंतरराष्ट्रय तेल मानक ब्रेंट क्रूड 2.28 प्रतिशत की गिरावट के साथ 71.91 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया। (एजेंसी)