Share-Market
Credit : Google

    मुंबई. उतार-चढ़ाव भरे कारोबार में बीएसई सेंसेक्स (BSE Sensex) बृहस्पतिवार को 84 अंक की बढ़त के साथ बंद हुआ। देश में कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus) के बढ़ते मामले तथा इसकी रोकथाम के लिये देश के कई भागों में लगायी गयी पाबंदियों के कारण निवेशक सतर्क रुख अपना रहे हैं। तीस शेयरों पर आधारित बीएसई सेंसेक्स 84.45 अंक यानी 0.17 प्रतिशत की बढ़त के साथ 49,746.21 पर बंद हुआ।

    नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 54.75 अंक यानी 0.37 प्रतिशत की बढ़त के साथ 14,873.80 अंक पर बंद हुआ। सेंसेक्स के शेयरों में सर्वाधिक लाभ में अल्ट्राटेक सीमेंट रहा। इसमें 4 प्रतिशत से अधिक की तेजी आयी। इसके अलावा, टाइटन, टेक महिंद्रा, नेस्ले इंडिया, टीसीएस, बजाज फिनसर्व और एल एंड टी में भी अच्छी तेजी रही।

    दूसरी तरफ, जिन शेयरों में गिरावट दर्ज की गयी, उनमें इंडसइंड बैंक, ओएनजीसी, सन फार्मा, एचडीएफसी बैंक तथा एक्सिस बैंक शामिल हैं। रिलायंस सिक्योरिटीज के रणनीति मामलों के प्रमुख विनोद मोदी ने कहा कि घरेलू शेयर बाजारों में कारोबार के दौरान ज्यादातर समय तेजी रही, लेकिन बाद में तेजी कम हुई। कोविड-19 के बढ़ते मामले निवेशकों की धारणा को प्रभावित कर रहे हैं। वित्तीय कंपनियों के शेयरों में मुनाफवसूली से गिरावट आयी।

    उन्होंने कहा, “वित्त वर्ष 2020-21 की चौथी तिमाही में कंपनियों की आय बेहतर रहने की उम्मीद तथा डॉलर के मुकाबले रुपये की विनिमय दर में गिरावट से निवेशक आईटी कंपनियों के शेयरों की ओर आकर्षित हो रहे हैं।”

    मोदी ने कहा कि हाल में बांड प्रतिफल नरम होने तथा कच्चे तेल के दाम में गिरावट से बाजार को कुछ सहारा मिला है। लेकिन रुपये की विनिमय दर में गिरावट निवेशकों के लिये चिंता का कारण हो सकती है। इसका एफपीआई प्रवाह पर भी असर पड़ सकता है।

    एशिया के अन्य बाजारों में शंघाई, हांगकांग और सोल बढ़त के साथ बंद हुए जबकि तोक्यो में गिरावट रही। यूरोपीय बाजार शुरूआती कारोबार में लाभ में रहे। इस बीच, वैश्विक तेल मानक ब्रेंट क्रूड 0.44 प्रतिशत की गिरावट के साथ 62.88 डॉलर प्रति बैरल पर आ गया। (एजेंसी)