Sensex breaks 97 points; Nifty below 9,900 level

मुंबई: कोरोना वायरस के वजह से भारतीय शेयर बाजार में पिछले कई दिनों से जारी गिरावट आज थम गई. सप्ताह के आखरी कारोबारी दिन में बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का सेंसेक्स 1325 अंको की बढ़त के 34,103 पर साथ बंद

मुंबई: कोरोना वायरस के वजह से भारतीय शेयर बाजार में पिछले कई दिनों से जारी गिरावट आज थम गई. सप्ताह के आखरी कारोबारी दिन में बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का सेंसेक्स 1325 अंको की बढ़त के 34,103 पर साथ बंद हुआ. इसी के साथ नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के निफ़्टी में भी मजबूती देखि गई जो 433 अंको के साथ 10,023 पर बंद हुआ. इसके पहले सुबह शेयर मार्केट खुलते ही बड़ी गिरावट हुई जिसके कारण एक घंटे के लिए कारोबार रोकना पड़ा. 

गिरावट के साथ खुले बाजार 
सप्ताह के आखरी दिन यानि शुक्रवार को शेयर बाजार गिरावट के साथ खुले. बीएसई का सेंसेक्स और एनएसइ का निफ्टी 10 प्रतिशत के गिरावट हुई. सेंसेक्स जहां 2,226 अंको के  गिरावट के साथ 30,552 पर खुला. वहीँ निफ़्टी 699 अंको की गिरावट के साथ 8,890 पर खुला. 

पढ़े यह भी: यस बैंक पर लगी रोक हटेगी जल्द, सरकार ने पुनर्गठन योजना को दी मंजूरी

45 मिनट तक बाजार हुआ बंद
बाजार खुलते ही आई 10 प्रतिशत गिरावट के कारण बाजार को 45 मिनट तक बंद कर दिया गया था. जिसके कारण कोई भी ना शेयर खरीद सकता था ना बेच सकता था. बतादें कि शेयर मार्केट में अगर 10 प्रतिशत की गिरावट आती है तो लोअर सर्किट लगा दिया जाता हैं. जिसके वजह से कारोबार  रोकना पढ़ता हैं. 

बाजार के हिसाब से कदम उठाने को तैयार: सेबी 
बाजार में शुरू गिरावट को लेकर सेबी ने निवेशकों आश्वासन देते हुए कहा, " मौजूदा स्तिथि को देखते हुए वह बाजार के अनुसार कदम उठाने को तैयार हैं.." सेबी ने कहा, " कोरोना वायरस के वजह से पूरी दुनिया के शेयर बाजारों में गिरावट शुरू हैं. वहीँ कच्चे तेल की कीमतों में भी बड़ी गिरावट हुई हैं. जिसके वजह से मंदी का डर सताने लगा है." 

आगे बोलते हुए कहा, " मौजूदा वक़्त में बाजार की जो स्तिथि है उसको देखते हुए हम बाजार के अनुकूल कोई भी कदम उठाने को तैयार हैं. " 

सरकार नज़र बनाए हुए हैं
बाजार के मौजूदा स्तिथि पर केंद्रीय वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा, " केंद्र के साथ राज्य सरकार स्तिथि पर अपनी नज़र बनाए हुए हैं. कोरोना वायरस के वजह से पूरी दुनिया के शेयर बाजार झुज रहे हैं. जिसका असर भारतीय बाजार में भी पड़ रहा हैं.