कैनरा बैंक का शुद्ध लाभ पहली तिमाही में तीन गुना बढ़कर 1,177 करोड़ रुपये

    नई दिल्ली: कैनरा बैंक ने मंगलवार को कहा कि चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में उसका शुद्ध लाभ तीन गुना बढ़कर 1,177.47 करोड़ रुपये रहा। अवरुद्ध ऋण खातों में कमी से बैंक को लाभ में मदद मिली है। सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक को पिछले वर्ष की इसी तिमाही में 406.24 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ हुआ था। 

    कैनरा बैंक ने पिछले वर्ष अप्रैल-जून तिमाही के दौरान सिंडिकेट बैंक को एक अप्रैल, 2020 से अपने आप में समाहित कर लिया था। कैनरा बैंक ने शेयर बाजार को दी सूचना में कहा कि चालू वित्त वर्ष की अप्रैल-जून तिमाही में उसकी आय बढ़कर 21,210.06 करोड़ रुपये रही जो इससे पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि में 20,685.91 करोड़ रुपये थी। 

    इस दौरान बैंक की सकल गैर-निष्पादित संपत्तियां (एनपीए) घटकर 8.50 प्रतिशत रह गई। जो अप्रैल-जून 2020 तिमाही में 8.84 पर प्रतिशत थी। कुल शुद्ध एनपीए अनुपात भी गिरकर 3.46 प्रतिशत हो गया, जो एक साल पहले इसी तिमाही में 3.95 प्रतिशत था। बैंक ने कहा कि बैंक ने कहा कि उसकी चालू वित्त वर्ष के दौरान पूंजी आधार बढ़ाने के लिए ऋण और इक्विटी के माध्यम से 9,000 करोड़ रुपये जुटाने की योजना है।

    इसके अलावा बैंक की गैर-ब्याज आय वित्त वर्ष 2021-22 की पहली तिमाही में 67.47 प्रतिशत बढ़कर 4,438 करोड़ रुपये हो गई जबकि वित्त वर्ष 2020-21 की पहली तिमाही में यह 2,650 करोड़ रुपये थी। वही बैंक का शुद्ध ब्याज मार्जिन (एनआईएम) चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही के दौरान घटकर 2.71 प्रतिशत हो गया, जो बीते वित्त वर्ष की समान तिमाही में 2.84 प्रतिशत था। कैनरा बैंक के प्रबंध निदेशक एवं मुख्‍य कार्यपालक अधिकारी एलवी प्रभाकर ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि ऋण का भुगतान 91 प्रतिशत तक पहुंच गया है, जो दर्शाता है कि उधारकर्ताओं ने भुगतान करना शुरू कर दिया है। 

    उन्होंने कहा, “ कुछ कर्जदारों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा था जिसे समाधान प्रक्रिया के तहत सुविधाएं देकर हल किया गया। इससे कर्जदारों को कुछ राहत मिली और अब उन्होंने अपना कारोबार शुरू कर दिया है।” कैनरा बैंक का शेयर मंगलवार को 1.47 प्रतिशत की बढ़त लेकर बीएसई पर 148.80 रुपये प्रति शेयर पर बंद हुआ। (एजेंसी)