File Photo
File Photo

Loading

मुंबई: कोल्ड ड्रिंक निर्माता कोका-कोला ऑनलाइन फूड ऑर्डरिंग प्लेटफॉर्म थ्राइव में हिस्सेदारी खरीदने के लिए तैयार है। थ्राइव एक फ़ूड डिस्कवरी और डिस्ट्रीब्यूशन प्लेटफार्म है जिसकी 5,500 से अधिक के साथ भागीदारी है और यह स्विगी और ज़ोमैटो के साथ सीधे कॉम्पिटिशन करेगा। सूत्रों के मुताबिक भारत में किसी स्टार्टअप में कोका-कोला का यह पहला इन्वेस्ट होगा, लेकिन अभी तक इसकी डील के कोई सटीक आंकड़े नहीं मिले हैं। इसके अलावा इस निवेश से कोका-कोला कंपनी को अपने प्रतिस्पर्धियों के मुकाबले एक अच्छी शुरुआत मिलेगी। क्योंकि यह ग्राहकों को केवल कोका-कोला के कोल्ड ड्रिंक प्रोडक्ट के साथ-साथ थ्राइव ऐप पर बने भोजन को ऑर्डर करने के लिए प्रोत्साहित करेगा। इससे उन्हें ऑर्डर अनुकूलित करने, डील पैकेज करने और खाने-पीने की चीजें बेचने में मदद मिलेगी। 

 डोमिनोज़ करेगा मदद 

2021 के अंत में, डोमिनोज़ के संचालक जुबिलेंट फूडवर्क्स ने लगभग 24.75 करोड़ रुपये में थ्राइव में 35% हिस्सेदारी का अधिग्रहण किया। इसके बाद यह ग्राहकों को सीधे डिलीवरी के साथ-साथ ग्राहक डेटा तक पहुंचने में मदद करेगा। अब तक, कोका-कोला – जो पैकेज्ड कोक और थम्स अप, मिनट मेड जूस, जॉर्जिया कॉफी और किनले वाटर बेचती है। उन्होंने मैकडॉनल्ड्स के साथ एक वैश्विक साझेदारी को चुना है, जो एकमात्र फास्ट फूड चेन है जो केवल कोका-कोला कोल्ड ड्रिंक बेचती है। कोका-कोला इंडिया ने इस मामले पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया। थ्राइव नाउ चलाने वाले हैशटैग लॉयल्टी के सह-संस्थापक ध्रुव दीवान ने भी इस मामले पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया। कोका-कोला ने पिछले साल सितंबर में भारत में कोक इज़ कुकिंग नामक एक मंच लॉन्च किया था ताकि ग्राहकों को रेस्तरां से भोजन के साथ-साथ पेय पदार्थ ऑर्डर करने के लिए प्रोत्साहित किया जा सके। 

सीधे ग्राहकों से ऑनलाइन ऑर्डर प्राप्त

उस समय, कोका-कोला के वाइस प्रेसिडेंट, मार्केटिंग हेड, भारत और दक्षिण पश्चिम एशिया, अर्नब रॉय ने कहा था कि कंपनी भारत में फूड पेयरिंग की खपत बढ़ाने के लिए एक बड़ा अवसर देखती है। थ्राइव के पास एक सेल्फ-सर्व टूल भी है जो रेस्तरां को अपने प्लेटफॉर्म पर अपना खुद का सब-पोर्टल बनाने का ऑप्शन देता है ताकि वे सीधे ग्राहकों से ऑनलाइन ऑर्डर प्राप्त कर सकें। प्लेटफ़ॉर्म को रेस्तरां से भारी समर्थन मिला है क्योंकि यह Zomato और Swiggy द्वारा चार्ज किए गए 18-25% की तुलना में रेस्तरां से एक चौथाई कमीशन लेता है।