sensex
File Pic

    नयी दिल्ली/मुंबई. आज चीन की चिंता को जैसे पीछे छोड़ते हुए भारतीय शेयर बाजार एक बहुत ही शानदार मुकाम पर पहुंच गया है। जी हाँ आज यानी शुक्रवार को बीएसई सेंसेक्स (BSE Sensex) 60 हजार के पार खुला है।

    आज बीएसई सेंसेक्स 273 अंकों की उछाल के साथ शानदार 60,158.76 पर खुला और थोड़ी ही देर में यह आगे बढ़ते हुए 60,333 की नई ऊंचाई तक भी पहुंच गया। इसी तरह आज नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी (NSE Nifty) 75 अंक की उछाल के साथ 17,897.45 पर खुला और यह भी बेहतरीन बढ़त बनाते हुए 17,947.65 तक चला गया।

    इस दौरान 30 शेयरों वाला सूचकांक 359.29 अंक या 0.60 फीसदी की तेजी के साथ 60,244.65 के अपने सर्वकालिक उच्च स्तर पर कारोबार कर रहा था। इसी तरह निफ्टी 100.40 अंक या 0.56 प्रतिशत बढ़कर 17,923.35 के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गया। सेंसेक्स को 1,000 अंक से ऐतिहासिक 60,000 के स्तर तक पहुंचने में 31 साल से थोड़ा अधिक समय लगा।

    सूचकांक 25 जुलाई 1990 को 1,000 अंक पर था और चार मार्च 2015 इसने 30,000 अंक के स्तर को छुआ। सेंसेक्स को 30,000 अंक का स्तर छूने में 25 साल लग गए। इसके बाद छह साल में सेंसेक्स 30,000 से बढ़कर 60,000 के स्तर पर पहुंच गया। सेंसेक्स में सबसे अधिक दो प्रतिशत की तेजी इंफोसिस में हुई। इसके अलावा एलएंडटी, एचसीएल टेक, एशियन पेंट्स, टीसीएस, टेक महिंद्रा और एचडीएफसी बैंक बढ़त दर्ज करने वाले शेयरों में शामिल थे।

    दूसरी ओर एनटीपीसी, एचयूएल, बजाज फाइनेंस और बजाज फिनसर्व लाल निशान में थे। पिछले सत्र में सेंसेक्स 958.03 अंक या 1.63 प्रतिशत बढ़कर 59,885.36 पर बंद हुआ था, जबकि निफ्टी 276.30 अंक या 1.57 प्रतिशत बढ़कर 17,822.95 पर पहुंच गया। विदेशी संस्थागत निवेशकों (एफआईआई) ने बृहस्पतिवार को सकल आधार पर 357.93 करोड़ रुपये के शेयर खरीदे। इस बीच अंतरराष्ट्रीय तेल बेंचमार्क ब्रेंट क्रूड 0.09 प्रतिशत बढ़कर 77.32 डॉलर प्रति बैरल पर था। 

     गुरूवार को भी शेयर बाजार में थी रौनक

    गौरतलब है कि बीते गुरूवार को भी शेयर बाजार में धमाकेदार तेजी देखी गई थी और दोनों प्रमुख सूचकांक करीब 1.5 % की तेजी के साथ अपने नए रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गए थे। तीस शेयरों पर आधारित सेंसेक्स 958.03 अंक यानी 1.63% की उछाल के साथ अब तक के उच्चतम स्तर 59,885.36 अंक पर बंद हुआ था।

    वही दूसरी तरफ नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 276।30 अंक यानी 1.57 पर्सेंट उछलकर रिकार्ड 17,822.95 अंक पर बंद हुआ था। दिन के कारोबार के दौरान यह 17,843.90 अंक के उच्चतम स्तर तक भी चला गया था। 

    क्या चीन है परेशानी में 

    बता दें की चीन के केंद्रीय बैंक ने बैकिंग सिस्टम में नकदी डालकर Evergrande मसले पर कुछ राहत देने की कोशिश की है। दरअसल चीन की एक रियल एस्टेट कंपनी Evergrande अब दिवालिया होने की कगार पर है और इसका असर पूरी दुनिया के शेयर बाजारों (Share Market) पर भी पड़ा है। पता हो कि एवरग्रैंड के ऊपर करीब 304 अरब डॉलर (करीब 22।45 लाख करोड़ रुपये) का कर्ज है। आशंका है कि यह कहीं चीन में अमेरिका के सब-प्राइम और लीमैन ब्रदर्स जैसा संकट न साबित हो जाए। लेकिन इसके विपरीत आज भारतीय शेयर बाजारों में रौनक है।