After the announcement of Russia's army operation, investors lost more than eight lakh crore rupees in the initial business
File Photo

    मुंबई: शेयर बाजारों में बुधवार को लगातार चौथे दिन गिरावट रही और बिकवाली दबाव में बीएसई सेंसेक्स 562.34 अंक लुढ़क कर 49,801.62 अंक पर बंद हुआ। अमेरिकी केंद्रीय बैंक (फेडरल रिजर्व) की मौद्रिक नीति समीक्षा के परिणाम आने से पहले रिलायंस इंडस्ट्रीज, एचडीएफसी बैंक और आईसीआईसीआई बैंक में गिरावट के साथ बाजार नीचे आया।

    कारोबारियों के अनुसार डॉलर के मुकाबले रुपये की विनिमय दर स्थिर रहने और विभिन्न राज्यों में कोविड-19 के बढ़ते मामलों को देखते हुए भी निवेशक सतर्क रुख अपना रहे हैं। उतार-चढ़ाव भरे कारोबार में 30 शेयरों वाला बीएसई सेंसेक्स 562.34 अंक यानी 1.12 प्रतिशत की गिरावट के साथ 49,801.62 अंक पर बंद हुआ।

    नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 189.15 अंक यानी 1.27 प्रतिशत की गिरावट के साथ 14,721.30 अंक पर बंद हुआ। सेंसेक्स में ओएनजीसी को सर्वाधिक करीब 4.95 प्रतिशत का नुकसान हुआ। एनटीपीसी, सन फार्मा, एसबीआई, इंडसइंड बैंक, रिलायंस इंडस्ट्रीज, बजाज ऑटो और डा. रेड्डीज भी गिरावट में रहे। सेंसेक्स के केवल चार शेयर आईटीसी, इन्फोसिस, टीसीएस और एचडीएफसी….लाभ में रहे। इनमें 1.20 प्रतिशत की तेजी रही।

    जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा, ‘‘भारती बाजार में गिरावट बनी रही क्योंकि अमेरिकी फेडरल रिजर्व की बैठक तथा कोविड-19 के बढ़ते मामलों को देखते हुए निवेशक सतर्क रुख अपना रहे हैं। इसके अलावा अंतरराष्ट्रीय कच्चे तेल के दाम में तेजी का भी घरेलू बाजार पर प्रभाव पड़ा है।” उन्होंने कहा, ‘‘वैश्विक बाजारों में भी शुरूआत अच्छी नहीं रही क्योंकि उन्हें फेडरल रिजर्व की बैठक के बुधवार को आने वाले नतीजे का इंतजार है।

    इस बात की उम्मीद है कि फेडरल रिजर्व उदार नीति को अपनाएगा जिससे वैश्विक बाजार को स्थिर होने में मदद मिलेगी।” वैश्विक निवेशकों को अमेरिकी ट्रेजरी बिल पर प्रतिफल बढ़ने के बीच फेडरल रिजर्व की नीतिगत निर्णय का इंतजार है। एशिया के अन्य बाजारों में शंघाई, तोक्यो और सोल में गिरावट रही जबकि हांगकांग बाजार बढ़त में रहा।

    भारतीय समयानुसार दोपहर बाद खुले यूरोप के प्रमुख बाजारों में प्रारंभ में गिरावट का रुख रहा। इस बीच, वैश्विक तेल मानक ब्रेंट क्रूड 0.89 प्रतिशत की गिरावट के साथ 67.78 डॉलर प्रति बैरल पर आ गया। अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपया 72.55 पर स्थिर बंद हुआ। शेयर बाजार के पास उपलब्ध आंकड़े के अनुसार पूंजी बाजार में विदेशी संस्थागत निवेशक शुद्ध लिवाल रहे। उन्होंने मंगलवार को 1,692.31 करोड़ रुपये मूल्य के शेयर खरीदे।