kalki-koechlin-i-was-not-advised-to-intimidate-the-audience-with-my-acting

लोगों ने सुझाव दिया कि उन्हें बालों को काला कर लेना चाहिए या अपने अभिनय से दर्शकों को नहीं डराना चाहिए।

मुंबई. अभिनेत्री कल्कि कोचलिन (Kalki Koechlin) का कहना है कि फिल्म जगत में उनके एक दशक लंबे सफर के दौरान कुछ लोगों ने उन्हें अजीब तरह की सलाह दीं। लोगों ने सुझाव दिया कि उन्हें बालों को काला कर लेना चाहिए या अपने अभिनय से दर्शकों को नहीं डराना चाहिए। कोचलिन (Kalki Koechlin) ने 2009 में अनुराग कश्यप की फिल्म “देव डी” (Dev.D) से अभिनय की दुनिया में कदम रखा और खुद को अपनी पीढ़ी की सबसे प्रतिभाशाली अभिनेत्रियों में से एक साबित किया।

उन्होंने “शैतान”, “मार्गरिटा, विद ए स्ट्रॉ”, “वेटिंग” और “गली बॉय” जैसी फिल्मों में अभिनय किया है। ज़ूम पर पीटीआई-भाषा को दिए साक्षात्कार में 36 वर्षीय अदाकारा ने कहा कि वह अन्य को इस बारे में फैसला नहीं करने देती हैं कि वह किस तरह कि फिल्में करेंगी और वह ऐसी कहानियों का चयन करती हैं जिनसे वह खुद को जोड़ पाती हैं।

कोचलिन (Kalki Koechlin) ने कहा, ” लोगों ने मुझे अजीब सलाह दी हैं। जैसे मुझे अपने बाल काले करा लेने चाहिए, आइटम नंबर करने चाहिए, दर्शकों को अपने अभिनय से डराना नहीं चाहिए। ऐसा नहीं है कि मैं व्यावसायिक फिल्में नहीं करना चाहती हूं, मैं रोमांटिक-कॉमेडी फिल्में करना चाहती हूं। “

अभिनेत्री ने कहा कि उन्हें अपने करियर में कई उतार-चढ़ाव के दौर देखे हैं और इससे उनमें असुरक्षा की भावना भी आती है। कोचलिन (Kalki Koechlin) ने कहा कि उन्हें फिल्म जगत में यह समझने के लिए पर्याप्त समय हो गया है कि न कामयाबी और न विफलता स्थायी होती है।

अभिनेत्री नेटफ्लिक्स पर तमिल संग्रह “पावा कधाइगल” में दिखेंगी। इसमें चार लघु फिल्में हैं जो इस चीज पर आधारित हैं कि कैसे प्रेम, गौरव और सम्मान से जटिल रिश्ते प्रभावित होते हैं।