Manoj Bajpayee

मुंबई. दो राष्ट्रीय पुरस्कार (National Awards), एक पद्म श्री (Padma Shri) और हिंदी फिल्म उद्योग में 26 वर्षों के अनुभव के बाद, प्रशंसित अभिनेता मनोज बाजपेयी (Manoj Bajpayee) ने खुलासा किया कि उन्हें अभी भी खुद पर संदेह है।

मनोज (Manoj Bajpayee) ने तर्क देते हुए कहा, “आत्म-संदेह हमेशा होता है। अभिनय एक ऐसी कठिन कला है। यह एक ऐसा शिल्प है, जो आपको कभी भी आराम करने या खुद के बारे में आश्वस्त होने की अनुमति नहीं देता है।

उन्होंने कहा, “आप इसमें गलत नहीं हो सकते। यह सीखने की एक सतत प्रक्रिया है। आत्म-संदेह एक ऐसी चीज है जिससे हर अभिनेता रोज गुजरता है। मैं किसी से अलग नहीं हूं।”

मनोज (Manoj Bajpayee) वर्तमान में अपने रैप नंबर “बंबई में का बा” (Bambai main ka ba) के लिए चर्चा का विषय बने हुए हैं। रैप गीत देश में प्रवासी श्रमिकों की दुविधा को उजागर करता है, और 9 सितंबर को इसके रिलीज होने के बाद से रैप की काफी सराहना हुई है।

फिल्म की बात करें तो वह जल्द ही अभिषेक शर्मा (Abhishek Sharma) की “सूरज पे मंगल भारी” (Suraj Pe Mangal Bhari) में सह-कलाकार दिलजीत दोसांझ (Diljit Dosanjh) और फातिमा सना शेख (Fatima Sana Shaikh) के साथ दिखाई देंगे।