बॉलीवुड के बादशाह का आज 54 वां जन्मदिन,जानें उनकी जिन्दगी से जुड़े कुछ खास पल

मुंबई, बॉलीवुड के किंग खान शाहरुख़ खान आज 2 नवंबर को अपना 54 वा जन्मदिन मना रहे है. शाहरुख खान का जन्म 2 नवंबर 1965 को दिल्ली में हुआ था। उनके पिता ट्रांसपोर्ट व्यवसाय से जुड़े हुए थे। अभिनय से जुड़ने

मुंबई, बॉलीवुड के किंग खान शाहरुख़ खान आज 2 नवंबर को अपना 54 वा जन्मदिन मना रहे है. शाहरुख खान का जन्म 2 नवंबर 1965 को दिल्ली में हुआ था। उनके पिता ट्रांसपोर्ट व्यवसाय से जुड़े हुए थे। अभिनय से जुड़ने और संचार की विभिन्न विधाओं को समझने के लिए उन्होंने जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय से स्नातकोत्तर की उपाधि ग्रहण की।

वर्ष 1988 में शाहरुख खान ने बतौर अभिनेता छोटे पर्दे के धारावाहिक ‘फौजी’ से अपने करियर की शुरुआत की। वर्ष 1991 में शाहरुख मुंबई आ गए। उसके बाद अजीज मिर्जा ने शाहरुख़ खान को अपने धारावाहिक ‘सर्कस’ में काम करने का अवसर दिया। इस धारावाहिक के जरिए शाहरुख़ ने लोगो के दिल में अपनी एक अलग जगह बनाना शुरू कर दिया। उन्हीं दिनों हेमा मालिनी को अपनी फिल्म ‘दिल आशना’ के लिए दिव्या भारती के अपोजिट नए चेहरे की तलाश थी। शाहरुख खान को जब इस बात का पता चला तो वह इस फिल्म के लिए स्क्रीन टेस्ट देने के लिए गए और चुन लिए गए।

इस बीच उन्हें फिल्म ‘दीवाना’ में काम करने का अवसर मिला। अभिनेता ऋषि कपूर के साथ शाहरुख खान ने अपने दमदार अभिनय से दर्शकों को अपना दीवाना बना लिया. इस फिल्म के लिए शाहरुख़ को फिल्म फेयर की ओर से नए अभिनेता का पुरस्कार भी मिला। वर्ष 1993 में शाहरुख़ खान की फिल्म ‘बाजीगर’ सुपरहिट साबित हुई. इस फिल्म के वजह से शाहरुख़ को इंडस्ट्री में एक नई पहचान मिली।

वर्ष 1993 में ही शाहरुख खान को यश चोपड़ा की ‘डर’ में काम करने का मौका मिला। इस फिल्म में शाहरुख़ का डायलॉग ‘क…क…क…किरण’ की सभी नकल करने लगे। 1995 में शाहरुख खान ने यश चोपड़ा की ही फिल्म ‘दिलवाले दुल्हनियां ले जाएंगे’ में काम किया। यह फिल्म उनके सिने करियर के लिए महत्वपूर्ण साबित हुई। शाहरुख खान और काजोल के संजीदा अभिनय से यह फिल्म सुपरहिट साबित हुई।

इसके बाद शाहरुख़ ने वर्ष 1999 में फिल्म निर्माण के क्षेत्र में भी कदम रख दिया। उन्होंने अभिनेत्री जूही चावला के साथ मिलकर ‘ड्रीम्स अनलिमिटेड’ बैनर की स्थापना की। इस बैनर के तहत शाहरुख खान ने फिल्म ‘फिर भी दिल है हिंदुस्तानी’ का निर्माण किया।लेकिन वह फिल्म लोगो को खास पसंद नहीं आई और वह असफल हो गयी।इसके बाद शाहरुख़ ने इसी बैनर तले दूसरी फिल्म ‘अशोका’ बनायी लेकिन इसे भी दर्शकों ने बुरी तरह से नकार दिया। हालांकि उनके बैनर तले बनी तीसरी फिल्म ‘चलते चलते’ सुपरहिट साबित हुई।

वर्ष 2004 में शाहरुख खान ने ‘रेडचिली इंटरटेनमेंट कंपनी’ का भी निर्माण किया और उसके बैनर तले ‘मैं हूं ना’ का निर्माण किया। जो लोगो को पसंद आई और सुपरहिट साबित हुई। बाद मे इसके बैनर तले उन्होंने ने ‘पहेली’, ‘काल’, ‘ओम शांति ओम’, ‘बिल्लू बार्बर’ और ‘चेन्नई एक्सप्रेस’ जैसी फिल्मों का भी निर्माण किया। वर्ष 2007 में लंदन के प्रसिद्ध म्यूजियम ‘मैडम टुसाड्स’ में शाहरुख़ खान की मोम की प्रतिमा लगायी गयी। इसी साल शाहरुख खान ने एक बार फिर छोटे पर्दे पर वासपी करते हुए स्टार प्लस के सुप्रसिद्ध शो ‘कौन बनेगा करोड़पति’ के तीसरे सीजन में होस्ट किया। शाहरुख खान को अपने सिने करियर में 8 बार सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का फिल्म फेयर पुरस्कार मिला है।