कंगना के पक्ष में बोली सोना मोहपात्रा, फराह खान को लताड़ा

मुंबई. गायिका सोना मोहापात्रा ने अभिनेत्री कंगना रनौत में ‘शालीनता’ और ‘क्लास’ की कमी के बारे में कमेंट करने वाली ज्वेलरी डिजाइनर फराह खान अली को लताड़ा। फराह ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से कंगना द्वारा ‘तुझ’ कर बात करने की आलोचना की थी। फराह पर निशाना साधते हुए सोना ने ट्विटर पर लिखा, “सच में अब। यही आपको सबसे ज्यादा परेशान करता है ??? ‘क्लास’, ‘शालीनता’ और बोलने का तरीका? कंगना के घर में प्रवेश करना और उसे तोड़ना मुंबई में हाल के दिनों में सबसे खराब और एक व्यक्ति के खिलाफ राज्य मशीनरी और तंत्र का खुला दुरुपयोग था। हम सभी असुरक्षित महसूस कराते है। ” हालांकि, अब ट्वीट को हटा दिया गया है।

बृहन्मुंबई नगर निगम (बीएमसी) द्वारा कथित अवैध निर्माणों को लेकर कंगना के ऑफिस को आंशिक रूप से ध्वस्त करने के बाद उन्होंने उद्धव ठाकरे को एक वीडियो संदेश भेजा था। जिस पर फराह ने कहा था कि कंगना के पास महाराष्ट्र सीएम को सम्मानपूर्वक संबोधित करने की शालीनता नहीं है।

ट्वीट्स की एक श्रृंखला में, फराह ने लिखा, “इसके अलावा उनके पास महाराष्ट्र के सीएम को संबोधित करने की शालीनता नहीं थी। उन्होंने ‘तुझ’ कहने की हिम्मत कैसे की? वह महाराष्ट्र के लोगों का प्रतिनिधित्व करते हैं और संबोधित करते हुए सम्मान के हकदार हैं। क्लास  ‘आप’ बोलने में है ‘तुझे क्या लगता हैं! में नहीं।”

खान ने एक अन्य ट्वीट में लिखा “मेरे पास कुछ राजनेताओं नेताओं के खिलाफ सौ शिकायतें हो सकती हैं, लेकिन मैंने किसी को व्यक्तिगत रूप से अपमान के साथ संबोधित नहीं किया है और मैं कभी नहीं करूंगी क्योंकि मुझे वर्दी और निर्वाचित प्रतिनिधियों को शालीनता दिखाना सिखाया गया हैं, भले ही मैं उनकी राजनीति से सहमत नहीं हूं।”

बुधवार को, कंगना ने उद्धव को संबोधित करते हुए एक वीडियो साझा किया, जिसमें उन्होंने कहा, “उद्धव ठाकरे, तुझे क्या लगता हैं, कि तूने फिल्म माफिया के साथ मिलकर मेरा घर तोड़कर मेरे से बहुत बड़ा बदला लिया है। आज मेरा घर टूटा है, कल तेरा घमंड टूटेगा। ये वक्त का पहिया है, याद रखना, हमेशा एक जैसा नहीं रहता, और मुझे लगता है कि तुमने मेरे पर बहुत बड़ा अहसान किया है। क्योंकि मुझे पता तो था कि कश्मीरी पंडितों पर क्या बीती होगी आज मैंने महसूस किया है।”

कंगना ने वीडियो में आगे कहा, “आज मैं इस देश को वचन देती हूं कि मैं सिर्फ अयोध्या पर ही नहीं बल्कि कश्मीर पर भी फिल्म बनाऊंगी। क्योंकि मुझे पता था कि ये हमारे साथ होना तो होगा लेकिन मेरे साथ हुआ है। इसका कोई मतलब है, इसके कोई मायने हैं। उद्धव ठाकरे ये जो क्रूरता और आतंक है, अच्छा हुआ ये मेरे साथ हुआ, क्योंकि इसको कुछ मायने हैं। जय हिंद, जय महाराष्ट्र।”

कंगना के ऑफिस को बीएमसी द्वारा विध्वंस करने के कुछ ही दिन पहले उन्होंने मुंबई पुलिस की आलोचना की और मुंबई की तुलना पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर से की। कंगना ने दावा किया कि यह उसे चुप कराने की कोशिश थी और उद्धव और करण जौहर के ‘अंडरहैंड’ तरीकों को उजागर करने की कसम खाई थी।