1.57 लाख छात्रों को नई पुस्तकों की प्रतीक्षा

    • लापरवाही: पुरानी पुस्तकों से हो रही है आनलाइन पढ़ाई

    चंद्रपुर. नए शैक्षणिक सत्र का शुभारंभ हो चुका है. कोरोना संकट के कारण इस समय कक्षा 8वीं से 12वीं की कुछ स्कूलों ने आफलाइन पढ़ाई शुरू कर दी है, जबकि पहली से लेकर 7वीं के विद्यार्थियों की पढ़ाई आनलाइन शुरू है. नई पुस्तकें नहीं मिल पाने के कारण लगभग सभी विद्यार्थियों को पुरानी पुस्तकों से काम चलाना पड़ रहा है. अगली स्कूलों मे प्रमोट हुए विद्यार्थियों ने जो पुस्तकें लौटाई हैं, उसे नए विद्यार्थियों को सौंपा गया है. जिले के करीब 1.57 लाख विद्यार्थियों को नई पुस्तकों की प्रतीक्षा है. 

    8वीं तक मिलती है नि:शुल्क

    सर्वशिक्षा अभियान अंतर्गत सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले पहली से 8वीं कक्षा के विद्यार्थियों को मुफ्त में पाठ्यपुस्तकें दी जाती हैं. यह पुस्तकें शैक्षणिक सत्र के पहले ही दिन स्कूल पहुंचने पर विद्यार्थियों को सौंपी जाती है. उनसे कहा जाता है कि इन पुस्तकों का ठीक से इस्तेमाल कर उसे वापस लौटा देना. हर वर्ष विद्यार्थियों को नई पुस्तकें मिलती थीं. लेकिन पिछले 2 सत्रों से शैक्षणिक सत्र प्रभावित होने से बच्चों की पढ़ाई आनलाइन ही चल रही है और पुस्तकों का स्थान मोबाइल फोन ने ले लिया है. इसके बावजूद पाठ्यपुस्तकों की आवश्यकता पड़ती है.

    लाकडाउन से प्रभावित हुई छपाई

    इस वर्ष बाल भारती को 1 लाख 57 हजार  578 विद्यार्थियों के लिए पुस्तकों का सेट भेजने के निर्देश दिए गए थे. किंतु कोरोना संक्रमण की वजह से निरंतर लाकडाउन के कारण पुस्तकों की छपाई पर असर पड़ा है. पुस्तकें स्कूलों तक नहीं पहुंच पाई हैं. ऐसे में विद्यार्थियों की पढ़ाई प्रभावित न हो इसलिए कुछ स्कूलों ने अपने प्रमोट किए गए विद्यार्थियों से उनकी जैसी भी अवस्था में है उन पुस्तकों को मंगाकर नए विद्यार्थियों को सौंप दी है. यह पुस्तकें अब विद्यार्थियों के काम आ रही है. इसके बावजूद विद्यार्थियों को नई पुस्तकों की प्रतीक्षा है.

    आफलाइन पढ़ाई में आ रही परेशानी

    जिले में कोरोना का खतरा कम होता देख वर्तमान में कक्षा 8वीं से लेकर 12वीं के विद्यार्थियों की पढ़ाई आफलाइन शुरू हो चुकी है. आने वाले समय में यही स्थिति रही, तो कक्षा पहली से लेकर 7वीं के विद्यार्थियों की पढ़ाई भी आफलाइन शुरू हो जाएगी. ऐसे में इन सभी बच्चों को स्कूल जाने के लिए पाठ्यपुस्तकों की आवश्यकता होगी. इसलिए जितनी जल्द हो सके इन विद्यार्थियों को पाठ्यपुस्तकें उपलब्ध होने चाहिए.

    आंकड़े

    कक्षा पहली से 8वीं तक के विद्यार्थी

    चंद्रपुर तहसील 20,776

    बल्लारपुर तहसील 6,177

    गोंडपिपरी तहसील 7,772

    पोंभूर्णा तहसील 4,004

    मूल तहसील 10,610

    सावली तहसील 9,432

    वरोरा तहसील 13,540

    भद्रावती तहसील 8,572

    चिमूर तहसील 13,994

    ब्रम्हपुरी तहसील 14,613

    नागभीड़ तहसील 11,518

    सिंदेवाही तहसील 10,344

    राजुरा तहसील 10,062

    कोरपना तहसील 9,583

    जिवती तहसील 7,581

    कुल 1,57,578