प्रधानमंत्री मातृवंदना योजना में 40610 मातांओ ने लिया सहभाग

  • मातांओं के लिए योजना बन रही सहायक
  • योजना का लाभ लेने का सीइओं का आवाहन

चंद्रपुर. गर्भवती महिलाओं को प्रसुती के पश्चात पोषाहार मिले तथा मातामृत्यु व बालमृत्यु में कमी आने की दृष्टी से केंद्र शासन  की महिला व बालविकास मंत्रालय ने 1 जनवरी 2017 में प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना शुरू की. जिले में अबतक 40 हजार 610 मातांओं ने योजना में सहभाग लिया है. योजना अंतर्गत 17 करोड 34 लाख 92 हजार रूपये का लाभ लिया है. जिले के सभी स्तर के गर्भवती महिला व माताओं को योजना का लाभ लेने का आवाहन जिप सीईओं कर्डिले ने किया है.  

गर्भधारना तथा प्रसुती के पश्चात बालकों को उचीत पोषाहार व स्तनपान आवश्यक है परंतु कई बार वह नही मिल पाता. परिणामी शिशु कुपोषित होते है. तथा माताओं को कई समस्याओं का सामना करना पडता है. देश में यह परिस्थिति निर्माण ना हो इसलिए प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना महत्त्वपुर्ण भुमिका निभा रही है. 

यह होंगे लाभार्थि
सभी स्तर के गर्भवती महिला व स्तनदा माताओं को योजना का लाभ दिया जा रहा है. 1 जनवरी 2017 के पश्चात सभी पात्र गर्भवती महिाला व स्तनपान करानेवाली महिला व बालक योजना के लिए पात्र है. 

लाभ लेने के लिए आवश्यक कागजाद 
पहिला, दुसरा व तिसरा लाभ प्राप्त करने के लिए आधार कार्ड, बैंक पासबुक की झेरॉक्स, पतीचा का आधार कार्ड, शिशु का जन्म दाखिला, माता बाल संरक्षण कार्ड की प्रत आवश्यक है. 

ऐसा मिलेगा चरणों अनुसार लाभ
पहिले शिशु के लिए माता को 5 हजार का लाभ मिलेगा. गर्भवती की दर्ज होने पर शासकीय स्वास्थ संस्थे की एएनएम के पास मासिक धर्म निकल जाने के बाद 100 दिन के भीतर किए जाने पर पहला लाभ 1 हजार रूपये मिलेगा. गर्भधारना के 6 महिनों में किमान एक प्रसुती पुर्व जांच करने पर दुसरा लाभ 2 हजार रूपये मिलेगा. प्रसुती के बाद बच्चें के जन्म दर्ज करने पर तथा शिशु चे 14 सप्ताह तक टिकाकरण पुर्ण करने पर तिसरा लाभ 2 हजार रूपये मिलेगा.