जिले में अबतक 67 हजार नागरिकों का आगमन

  • 36 हजार मजदुरों को अबतक दी गयी विदाई

चंद्रपुर. लॉक डाऊन में शिथिलता घोषित होने के पश्चात नोकरी, व्यवसाय, शक्षिण व मजदुरों का स्थलांतरण जिले में हो रहा है. अत्यंत संवेदनशील इस कार्य में प्रशासन के 1 हजार कर्मचारी मानवता की दृष्टी से यह भुमिका निभा रहे है. अब तक जिले से बाहर 36 हजार 129 नागरीकों को विदाई दी गयी. तो बाहरी राज्य व जिले से अबत तक अनुमती लेकर कुल 67 हजार 553 नागरीकों का आगमन हुआ है.

प्रत्येक राज्य की राज्यनिहाय सुची तैयार करना, मजदुरों की जानकारी लेना, अन्य राज्य के प्रशासन से समन्वयन रखना, डिपो प्रमुख, रेल्वे प्रबंधन, उनका समय, तिकीट निकालकर देना, खाने की व्यवस्था करना आदि कार्य प्रशासन कर्मचारीयों को करना पडा. जिलाधिश डॉ. कुणाल खेमनार के मार्गदर्शन में निवासी उपजिलाधिश संपत खलाटे, उपजिलाधिश प्रियंका पवार, परिवक्षिाधीन उपजिलाधिश विजय सुर्यवंशी, तहसिलदार संजय राईंचवार, तहसिलदार निलीमा रंगारी तथा नोडल अधिकारी समाजकल्याण सहायक आयुक्त प्रसाद कुळकर्णी समेत जिले के सभी उपविभागीय अधिकारी, तहसीलदार, मुख्य अधिकारी, मनपा के संबंधीत अधिकारी, तलाठी प्रयासरत है. जिला प्रशासन के करिबन 1 हजार 206 अधिकारी-कर्मचारी प्रयासरत है.

जिले से स्वगाव गए हुए नागरिक
20 मई तक रेलवे से झारखंड राज्य में 261, बिहार राज्य में 829, उत्तर प्रदेश राज्य में 669 तो महाराष्ट्र के अन्य जिले में 192 ऐसे कुल 1 हजार 951 नागरीक स्वगाव गए है.

चंद्रपुर से विविध मार्ग से महाराष्ट्र के अन्य जिले में 9622, छत्तीसगड में 3 हजार 200, राजस्थान 541, आंध्रप्रदेश 81, झारखंड 216, बिहार 617, उत्तर प्रदेश 970, मध्यप्रदेश 2642, तेलंगाना राज्य में 311 ऐसे कुल 18 हजार 200 नागरीक स्वगाव गए है.

मॅन्युअली पास के जरिए (इशू ऑफलाइन पासेस) महाराष्ट्र के अन्य जिले में 5 हजार 772, छत्तीसगड 1 हजार 443, राजस्थान 321, तेलंगाना 324, आंध्र प्रदेश 102, झारखंड 285, बिहार 710, उत्तर प्रदेश 1 हजार 155, मध्यप्रदेश 1 हजार 46 ऐसे कुल 11 हजार 158 नागरीक स्वगाव गए.

ई- पास (ऑनलाइन पास इशू) के जरिए महाराष्ट्र के अन्य जिले में 2 हजार 255, छत्तीसगड 42, राजस्थान 16, तेलंगाना 112, आंध्रप्रदेश 20, झारखंड 8, बिहार 28, उत्तर प्रदेश 56, मध्यप्रदेश 57 ऐसे कुल 2 हजार 594 नागरीक स्वगाव गए.

रापनि के बस से महाराष्ट्र के अन्य जिले में 310, छत्तीसगड 1 हजार 458, मध्यप्रदेश 458 ऐसे कुल 2 हजार 226 नागरीक स्वगाव पहुचे है.

जिले में नागरिकों का आगमन
20 मई तक रेलवे से तेलंगाना से 1 हजार 729 नागरीक जिले में पहुचे है. विविध मार्ग से महाराष्ट्र के अन्य जिले में 329, तेलंगाना 45 हजार 303, ऐसे कुल 45 हजार 632 नागरीक जिले में लौटे है.

मैन्युअली पास से (इशू ऑफलाइन पासेस) महाराष्ट्र के अन्य जिले से 4 हजार 585 नागरीकों का जिले में आगमन हुआ है. महाराष्ट्र राज्य परिवहन निगम बस से महाराष्ट्र के अन्य जिले से 101 नागरिक जिले में लौटे है. तथा लॉकडाऊन के दौरान तलाठी, आशा वर्कर, अंगणवाडी सेविका के माध्यम से आज तक नागरीकों को दर्ज किया है. यह सभी एकत्रित संख्या की है. तो कुल 67 हजार 553 नागरिक जिले में लौटे है.

प्रशासन के 1 हजार से अधिक कर्मचारी कार्यरत
लॉकडाऊन में फंसे नागरिकों उनके गांव तक पहुचाने के लिए जिला प्रशासन के करिबन 1 हजार 206 अधिकारी-कर्मचारी दिन में 12 से 14 घंटे कार्य कर रहे है.