जि.प.. स्वास्थ्य विभाग के 9 कर्मी निलंबित,  8 स्वास्थ्य केन्द्रों में 34 लाख 41 हजार 231 रुपयों का घोटाला

चंद्रपुर: जिला परिषद के स्वास्थ्य विभाग के लिपिक द्वारा नियमों का उल्लंघन कर गैरकानूनी तरीके से लगभग 34 लाख 41 हजार 231 रुपयों का अतिरिक्त वेतन कर हेराफेरी किए जाने का मामला उजागर हुआ है.इस मामले की जांच कर 9 कर्मियों को सीईओ ने दोषी पाये जाने पर निलंबित कर दिया है. गबन की गई राशि में से 19 लाख 97 हजार 987 रुपयों की वसूली कर सभी की विभागीय जांच शुरू की गई है.

जि.प. के स्वास्थ्य विभाग अंतर्गत अधिकारी एवं कर्मचारियों की प्रतिमाह लिपिक वर्गीय कर्मचारियों द्वारा वेतन बिल ऑनलाईन भेजा जाता है. यह बिल भेजकर कुछ कर्मचारी अतिरिक्त बिल तैयार कर स्वयं के बैक खाते में रकम जमा करते आ रहे थे.

प्रारंभ में विसापुर प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र के निलेश मोरे नामक लिपिक ने 6 लाख रुपये स्वयं के खाते पर जमा कराये जाने का मामला सामने आया. इसके बाद अन्य प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों की जांच की गई. वित्त विभाग को इस प्रकरण की जांच का जिम्मा दिया गया था. आठ प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में इस तरह के घोटाला सामने आया.

आठों स्वास्थ्य केन्द्र के लिपिकों द्वारा 34 लाख 41 हजार 231 रुपयों का गबन किए जाने का सामने आने पर इन लिपिकों को शह देनेवाले वरिष्ठ लिपिक पांडे को भी दोषी पाया गया. स्वास्थ्य विभाग के 9 लोगों को इस मामले में निलंबित किया गया है. उनसे गबन की गई राशि वसूल की जाएगी.