Agricultural laborers injured in tiger attack

हलदा में बाघ के हमले में चरवाहे की मौत की घटना के कुछ घंटे बाद ही बोडधा के बैकुंठ यादव ठाकरे खेतिहर मजदूर पर बाघ ने हमला कर दिया।

ब्रम्हपुरी. हलदा में बाघ के हमले में चरवाहे की मौत की घटना के कुछ घंटे बाद ही बोडधा के बैकुंठ यादव ठाकरे खेतिहर मजदूर पर बाघ ने हमला कर दिया। किंतु उसके और किसानों के शोर शराबा मचाने से बाघ जंगल में भाग गया जिससे अनहोनी टल गई। किंतु परिसर में हदशत बनी है।

15 अक्टूबर की सुबह उमाजी कुशन मस्के (70)  का शव हलदा के समीप जंगल में मिला था। वह बुधवार को बकरिया चराने गया था किंतु उसके न लौटने पर अगले दिन सुबह उसकी तलाश की तो उसका शव मिला था। इस घटना के कुछ घंटे बाद ही शाम 4 बजे बोडधा निवासी खेतिहर मजदूर वैकुंठ यादव नित की भांति अपने मवेशियों को लेकर कृषि कार्य के लिए गया था।

शाम 4 बजे काम निबटाकर वह लौट रहा था कि बाघ ने उस पर हमला कर दिया। किंतु उसके और पास के खेत में काम कर रहे किसानों के शोर शराबा करने से बाघ जंगल में भाग गया। परिसर में बाघ के हमले की घटनाएं लगातार हो रही है जिससे खेतों में काम पर जाने वाले किसानों में दहशत है। इसलिए वनविभाग से तुरंत बाघ का बंदोबस्त करने की मांग की है।