hospital
Representational Pic

    • बांबूटेक और हिरव सोन संस्था ने किया डिजाईन
    • प्रायोगिक तौर पर चिचपल्ली पीएचसी को भेट

    चंद्रपुर: हम सरकारी और निजी अस्पतालों में अक्सर देखते है कि मरीजों को स्लाईन लगाने के लिए आई.वी. स्टैंड का उपयोग किया जाता है जो कि पूरी तरह से लोहे के बने होते है और कई वर्षों तक इस्तेमाल करने के कारण इन पर जंग भी चढ जाता है. पेंट लगाकर इन्हें बारंबार इस्तेमाल किया जाता है. बांबूटेक ग्रीन सर्विसेस और हिरव सोन बांस कारीगर संस्था ने बांस से निर्मित आकर्षक,कलात्मक और पर्यावरणपूरक बांस आई.वी.स्टैंड तैयार किए गए है जो कि मजबूत और टिकाऊ है. अब अस्पतालों में यह बांस के बने आई.वी. स्टैंड नजर आएंगे. 

    हाल ही में चिचपल्ली के प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में आई.वी. स्टैंड के अभाव में मरीजों को हो रही असुविधा को देखते हुए सामाजिक दायित्व के रूप में संस्थाओं ने यह आई.वी. स्टैंड  भेट दिया गया. इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रम की अध्यक्षता जिला परिषद सदस्य गौतम निमगडे ने की. सरपंच गिरीजा आत्राम, वैद्यकीय अधिकारी डा. संगीत भंडारी, ग्रामपंचायत सदस्य रवि सूत्रपवार, चरण कुमरे, इमरान पठान, नारायण खापने, हिरव सोन संस्था के पदाधिकारी भुजंग रामटेके,, निकेश बावणे, बांबूटेक की संचालक अन्नपूर्णा दुर्वे_बावनकर आदि की प्रमुखता से उपस्थिति थी.  

    अध्यक्षता करते हुए गौतम निमगडे ने कहा कि प्लास्टिक, लोहे और लकड़े के लिए बांस उत्तम विकल्प हो सकता है. इससे पर्यावरण रक्षण के साथ रोजगार निर्मिति भी हो सकती है. अन्नपूर्णा दुर्वे ने कहा कि परिसर में कोई समस्या निर्माण हो तो केवल प्रशासन को दोष देने कब बजाय सुजान नागरिक के रूप में कौशल्य एवं ज्ञान का उपयोग कर इस समस्या को जनसहयोग से कैसे सुलझाया जा सकता है इस पर विचार करना आवश्यक है. प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र को भेट स्वरूप में मिले आई.वी.स्टैंड यह जनसहयोग से कौशल्य, कल्पकता और सामाजिक जिम्मेदारी का सुंदर परिणाम है.

    कार्यक्रम का संचालन राकेश बावने ने किया आभार पंकज ने माना. कार्यक्रम की सफलतार्थ बांबूटेक और हिरव सोन के सभी पदाधिकारियों ने प्रयास किए.