मार्निंग वॉक पर निकले वृध्द पर भालू का हमला, सप्ताह भर में दूसरी घटना

    चंद्रपुर: आज सोमवार 15 मार्च के तडके 6 बजे चंद्रपुर वनपरिक्षेत्र चंद्रपुर उपक्षेत्र बाबूपेठ नियतक्षेत्र के  लालपेठ कालरी परिसर में मॉर्निंग वॉक पर निकले मधुकर आत्राम 60 को गंभीर रूप से घायल कर दिया. घायल को शासकीय अस्पताल में भरती किया गया है.शहर के पठानपुरा गेट के बाहर जमनजट्टी माना टेकडी के पास भालू द्वारा घायल किए जाने की यह दूसरी घटना है. 

    लालपेठ पुरानी बस्ती चंद्रपुर निवासी मधुकर गंगाराम आत्राम रोजाना की तरह आज सुबह मार्निंग करने के लिए निकले थे. परिसर में मौजूद भालू ने उन पर अचानक हमला कर दिया. अन्य लोगों के खदेड़े जाने से भालू वहां से जंगल की ओर निकल गया. इस घटना की जानकारी मिलते ही वनविभाग की टीम घटनास्थल पर पहुंची और घायल को तुरंत चंद्रपुर जिला अस्पताल पहुंचाया.  

    पिछले कुछ दिनों से माना_लालपेठ परिसर में भालू की मौजदूगी देखी गई है. पिछले सप्ताह ही मार्निंग वॉक कर रहे सुनील लेनगुरे और महादेव गुड्डीटीवार को भालू ने हमला कर घायल कर दिया था. यहां भालू के बढते हमलों को देखते हुए इको प्रो ने वेकोलि और वनविभाग से बंदोबस्त करने की मांग की थी.  परिसर में काफी बड़े पैमाने पर जंगली झाड़ियां होने से भालू समेत अन्य हिंसक प्राणियों का यह ठिकाना बनता जा रहा है. इको प्रो ने लोगों को आगाह किया कि वें परिसर में मार्निंग वॉक के लिए ना निकले परंतु लोगों द्वारा ध्यान नहीं दिए जाने से यह दूसरी बार घटना हुई है.

    हमलावर भालू को पकड़े: तिवारी

    चंद्रपुर शहर जिला कांग्रेस के अध्यक्ष रितेश उर्फ रामू तिवारी ने जिलाधिकारी को निवेदन सौपकर हमलावर भालू को पकडने की मांग की है. उनका कहना है कि भालू द्वारा लगातार हमले किए जाने के बाद भी वनविभाग के अधिकारियों का ध्यान नहीं है. यह जिला प्रशासन के लिए गंभीर विषय है. भालू को पकडने का आदेश वनविभाग को दे अन्यथा मुख्य वनसंरक्षक का घेराव किया जाएगा.

    तिवारी का कहना है कि पठानपुरा गेट के बाहर सुबह और शाम को घुमने जानेवालों की संख्या काफी है मात्र कुछ दिनों से इस परिसर में भालू ने आतंक मचा रखा है. पिछले सप्ताह ही भालू ने हमला कर दो लोगों को घायल किया था. तभी भालू को पकडने की मांग की थी परंतु सप्ताह बीतने के बाद भी ध्यान नहीं दिया गया. ज्ञापन सौपनेवाले शिष्टमंडल में चंद्रपुर शहर जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष रितेश उर्फ रामू तिवारी, एनएसयूआय के महासचिव कुणाल चहारे, संजय गंपावार, अनिस राजा, बंटी शैनेशचंद्र का समावेश था.