रमाई आवास योजना से लाभार्थी वंचित, पाथरी ग्रामपंचायत की लापरवाही उजागर

चंद्रपुर. सरकार की आवास योजना से आर्थिक परिस्थिति से कमजोर प्रत्येक परिवार को पक्के आवास बनाकर देने की रमाई आवास योजना, शबरी आवास योजना, प्रधानमंत्री आवास योजना ऐसी विभिन्न योजना से आवास दिये जाते है. परंतु सावली तहसील के पाथरी में ग्रामपंचायत प्रशासन की लापरवाही के कारण पाथरी के 62लाभार्थी 2019-20 से लाभ से वंचित है.

सावली पंचायत समिति स्तर पर सभा में अधिकारियों ने कई बार पाथरी ग्रामपंचायत के ग्रामविकास अधिकारी को प्रस्ताव भेजकर सूचित किया है परंतु ग्रामविकास अधिकारी के लापरवाही के कारण एवं उदासीनता बरते जाने से पाथरी के 62 लाभार्थियों को इस योजना का लाभ नहीं मिल पाया है.

कोरोना काल में स्थानीय पदाधिकारियों के आशिर्वाद के कारण ग्रामविकास अधिकारी मनमानी कर रहे है. शासन के मुख्यालय में रहने के आदेश होने के बावजूद वें आवागमन करते है. अब ग्रामपंचायत के सरपंच और सदस्यों का कार्यकाल समाप्त हो गया है शासन ने प्रशासक की नियुक्ति की है. परंतु प्रशासक के पास दो से तीन ग्रामपंचायत का कार्यभार होने के कारण अन्य ग्रा.पं. में उनका ध्यान नहीं जा रहा है.इसके चलते ग्रामसेवकों का मनमानीपूर्ण कामकाज शुरू है.

ग्रामसेवक कई बार कार्यालय से अनुपस्थित रहते है. यहि किसी दिन आ जाए तो कब आये और कब निकल गए तो उनका पता नहीं चलता है. पाथरी ग्रामपंचायत में ग्रामसेवक की कुर्सी हमेशा खाली नजर आती है. स्थानीय लोग ग्रामपंचायत के चक्कर काटकर लौट जाते है.

आवास योजना, पंचायत समिति सावली के स्थापत्य अभियंता प्रदीप आत्राम का कहना है कि बारंबार पाथरी के ग्रामसेवक मानकर को प्रस्ताव भेजकर सूचित करने के बाद भी उन्होने प्रस्ताव नहीं भेजा है इसके चलते 2019-20 के वर्ष में रमाई आवास योजना के लाभार्थियों को लाभ नहीं मिला है. इससे लाभार्थी वंचित है. प्रस्ताव मांगकर आगे 2020-21 इस वर्ष में वें लाभ ले सकते है.