Bear dies in unknown vehicle collision

    चंद्रपुर. चंद्रपुर जिले में बढ रही तपीश के चलते जंगल के वन्यप्राणी पानी की तलाश में गांव की ओर रूख बढा रहे है. ऐसे में कई बार पानी की तलाश में उन्हे स्वयं की जान गवानी पड रही है. पानी के लिए जंगल के बाहर भटकनेवाले 2 भालु व 2 बच्चों की कुए में गिरकर मृत्यु होने की घटना ताडोबा अंधारी व्याघ्र प्रकल्प के बफर जोन में आनेवाले वाढोली खेत में गुरूवार की सुबह घटी. इसकी जानकारी गांववालों को मिलते ही वनविभाग को सूचित कर भालु के शवों को कुए से बाहर निकाला गया.

    मई अप्रैल महिने में चंद्रपुर जिले का तापमान 43 अंश सेल्सिअस के पार होता है. भीषण गर्मी में जंगल के वन्यजीवों को पानी की आवश्यकता होती है. परंतु जंगल में पानी की स्त्रोत सुखते जाने से वन्यप्राणी अपने कदम गांव की ओर बढाते है. बुधवार की शाम ताडोबा के मोहुर्ली क्षेत्र अंतर्गत आनेवाले वाढोली में पानी की तलाश में खेत में कुए के पास आए. परंतु कुए को किनार नही होने से उनका संतुलन बिघड गया व वह कुए में गिर गए.

    सुबह जब खेत में काम करनेवाले मजदूर कुए के पास पहुचने पर उन्हे कुए में 2 भालु व 2 बच्चें मृतावस्था में दिखाई दिए. इस संदर्भ में तत्काल गांव के लोगों को जानकारी दी गई. गांववालों ने इसकी सूचना वनविभाग अधिकारी को दी. वनविभाग अधिकारी व कर्मीयों ने घटनास्थल पहुचकर मृत भालु व बच्चों के शव को बाहर निकाला. ताडोबा जैसे संरक्षित जंगल के वन्यप्राणीयों को पानी के लिए जंगल के बाहर आना पड रहा है जिससे यहां प्रबंधन की व्यवस्था पर प्रश्नचिन्ह निर्माण हो रहा है.